गृह मंत्रालय में कर्मचारी बेधड़क देखते थे पॉर्न, मनमोहन सरकार का था दौर

66 0

मुंबई। केंद्र में यूपीए की सरकार के दौरान गृह मंत्रालय के किसी कर्मचारी को किसी का डर नहीं रह गया था। हालात ये हो गए थे कि जब अफसर मीटिंग कर रहे होते थे, तो कर्मचारी बेधड़क अपने सरकारी कम्प्यूटर पर पॉर्न देखते थे।

पूर्व गृह सचिव ने किया खुलासा
यूपीए सरकार के दौरान केंद्र में गृह सचिव रहे जीके पिल्लै ने ये चौंकाने वाला खुलासा किया है। पिल्लै नैसकॉम की ओर से प्रमोटेड एनजीओ ‘डेटा सिक्योरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया’ (डीएससीआई) के अध्यक्ष हैं। उन्होंने बताया कि गृह मंत्रालय के तमाम जूनियर कर्मचारी दफ्तर के कम्प्यूटर्स पर ही पॉर्न देखते थे और वीडियो डाउनलोड करते थे।

पॉर्न की वजह से कम्प्यूटर होते थे गड़बड़
जीके पिल्लै ने कहा कि आठ-नौ साल पहले जब वो केंद्रीय गृह सचिव थे, तो औसतन हर दो महीने में कम्प्यूटर सिस्टम गड़बड़ मिलता था। इसकी वजह जब जांची गई तो पता चला कि जब सीनियर अफसर देर रात तक मीटिंग कर रहे होते थे, तो उनके नीचे के कर्मचारी पॉर्न साइट्स देखते और वहां से वीडियो डाउनलोड करते थे।

पॉर्न साइट्स से आते हैं मालवेयर
बता दें कि पॉर्न साइट्स से मालवेयर नाम के वायरस भी डाउनलोड होते हैं। ऐसे में कम्प्यूटर में खराबी आ जाती है। पिल्लै ने बताया कि जब कम्प्यूटर खराब होने की शिकायत बार-बार आने लगी तो इसकी जांच की गई। तब पता चला कि उनमें पॉर्न साइट्स खोले गए और वीडियो डाउनलोड किए गए।

बीते दिनों सरकारी वेबसाइट्स में हुई थी गड़बड़ी
बता दें कि बीते दिनों तमाम मंत्रालयों की वेबसाइट्स में गड़बड़ी हुई थी। इनमें गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट्स भी शामिल थीं। सरकार ने बताया था कि वेबसाइट्स हैक नहीं की गई थीं, बल्कि हार्डवेयर में गड़बड़ी से ऐसा हुआ था।

Related Post

दावोस पहुंचे पीएम मोदी, वैश्विक बिजनेस समुदाय को करेंगे संबोधित

Posted by - January 22, 2018 0
डब्ल्यूईएफ : अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ भविष्य में भारत के संबंधों पर अपना विजन सामने रखेंगे मोदी दावोस। प्रधानमंत्री नरेंद्र…

इस कैफे में स्टूडेंट्स को कॉफी पीने के लिए नहीं देने पड़ते हैं पैसे, करना होता है ये काम

Posted by - October 2, 2018 0
टेक्सास। अमेरिका में एक ऐसा कैफे है जहां स्टूडेंट्स फ्री में कॉफी पी सकते हैं। जी हां, इस कैफे में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *