कठुआ में 8 साल की मासूम से रेप और हत्या के केस में दाखिल हुई चार्जशीट

103 0
  • रेप में विशेष पुलिस अधिकारी भी शामिल, हत्‍या से पहले बोला – मुझे भी रेप कर लेने दो
  • मामले में तेज हुई राजनीति भी, आरोपियों के पक्ष में खड़ा हुआ वकीलों का एक समूह

जम्मू। जनवरी महीने में जम्मू-कश्मीर के कठुआ में एक 8 साल की बच्ची के साथ रेप के बाद मर्डर के मामले में विरोध प्रदर्शन तेज़ होता जा रहा है। रेप पीड़िता की वकील दीपिका एस रजावत ने स्थानीय वकीलों पर चार्जशीट फाइल करने में रुकावट पैदा करने का आरोप लगाया है। हालांकि इसके बावजूद इस मामले में जम्मू-कश्मीर क्राइम ब्रांच ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। इस मामले में अब राजनीति भी तेज हो गई है। वकीलों का एक समूह आरोपियों के पक्ष में खड़ा हो गया है और मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहा है।

सोची-समझी साजिश थी यह घटना

इस मामले में मुख्य आरोपी राजस्व विभाग के एक पूर्व अधिकारी सांजी राम ने सरेंडर किया है। कहा जा रहा है कि गैंगरेप के जरिए सांजी राम बंजारा समुदाय को गांव छोड़ने के लिए धमकाना चाहता था, इसीलिए उसने मासूम को अगवा करवाया। इसके अलावा इस मामले में विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया और सुरेन्द्र वर्मा, हेड कांस्टेबल तिलक राज और सब-इंस्पेक्टर आनंद दत्ता को भी गिरफ्तार किया गया है।

रोंगटे खड़ी करने वाली है बच्‍ची से बर्बरता

चार्जशीट में आरोपियों की बच्ची से बर्बरता का विवरण रोंगटे खड़े करने वाला है। इसमें बताया गया है कि 11 जनवरी को नाबालिग का अपहरण कर लिया गया था। उसके बाद उसके साथ कई बार रेप किया गया। यही नहीं, उसे कई दिन तक एक मंदिर में बंधक बनाकर रखा गया और उसे नशे की गोलियां दी गईं। वहां भी उसके साथ रेप हुआ। आरोपी ने एक अन्य आरोपी विशाल जंगोत्रा को फोन कर मेरठ से बुलाया। विशाल ने भी उसके साथ रेप किया।

पुलिसकर्मी ने भी किया मासूम से रेप

चार्जशीट में सबसे शर्मसार करने वाला मामला एक पुलिसकर्मी का है। इसमें कहा गया है कि लड़की से गैंगरेप के बाद उसकी हत्या करने की योजना बनाई जा रही थी। इस बीच मामले की जांच करने वाले पुलिसकर्मी दीपक खजूरिया ने कहा कि यदि बच्ची की हत्या कर शव को छिपाना है तो थोड़ा इंतजार करो, मैं भी हवस मिटाना चाहता हूं। इसके बाद पुलिसकर्मी ने भी लड़की से बलात्कार किया। फिर आरोपियों ने पत्थरों से वार कर नाबालिग का सिर कुचला और गला घोंटकर हत्या कर दी। 15 जनवरी को उसका शव जंगल में फेंक दिया गया, जो 17 जनवरी को बरामद हुआ।

पुलिस ने डेढ़ लाख रुपये ली घूस

यही नहीं, चार्जशीट में यह भी कहा गया है कि पुलिस ने केस को रफा-दफा करने के लिए रेप पीडि़त नाबालिग की मां से डेढ़ लाख रुपये घूस भी ली। जब इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच को दो गई तो इस पर जमकर राजनीति हुई। विधानसभा में भी खूब हंगामा हुआ। हैरान करने वाली बात तो यह कि लोगों ने झंडे लेकर आरोपियों के पक्ष में प्रदर्शन किया।

Related Post

जोधपुर में पुलिसवालों ने राजनाथ को नहीं दिया गार्ड ऑफ ऑनर

Posted by - October 17, 2017 0
जोधपुर। राजस्थान में सैलरी में हो रही कटौती से नाराज पुलिसकर्मियों ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के सामने अनोखे तरीके से…

जब वजन घटाने वाले विज्ञापन से ठगे गए उपराष्ट्रपति नायडू

Posted by - December 29, 2017 0
नकली सामान का मुद्दा उठने पर उपराष्‍ट्रपति ने राज्‍यसभा में बताई आपबीती नई दिल्‍ली। धोखाधड़ी सिर्फ आम इंसानों के साथ…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *