उन्नाव गैंगरेप केस में योगी सख्त, शाम तक SIT रिपोर्ट मांगी, ऑडियो वायरल

79 0

लखनऊ। उन्नाव में हुए गैंगरेप केस में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपनाया है। उन्होंने इस मामले की जांच कर रही एसआईटी से आज (11 अप्रैल) शाम तक प्राथमिक रिपोर्ट मांगी है। इस मामले में बांगरमऊ सीट से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, उनके भाई अतुल सिंह सेंगर समेत कई लोगों पर एक लड़की ने गैंगरेप का आरोप लगाया है।

विधायक का भाई गया जेल
रेप के मामले में आरोपी बीजेपी विधायक के भाई अतुल को पीड़ित लड़की के पिता को पीटने के आरोप में मंगलवार को गिरफ्तार किया गया था। अतुल को सीजेएम कोर्ट ने जेल भेज दिया है। पीड़ित लड़की के पिता की मौत के बाद अतुल पर हत्या की धारा 302 लगाई गई है। इस मामले में चार अन्य आरोपी भी हैं। सभी को रिमांड पर लेने के लिए पुलिस कोर्ट में अर्जी देगी।

युवती के पिता की पिटाई से फटी थी आंत
पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़िता के पिता की जमकर पिटाई की गई थी। पिटाई से शरीर पर 14 जगह चोटें लगी थीं। इतना ही नहीं, भोथरी चीज से वार किए जाने से बड़ी आंत भी फट गई थी, जिसकी वजह से अंदर खून बहता रहा और उनकी मौत हो गई। डॉक्टरों ने आंत का हिस्सा और विसरा सुरक्षित रख लिया है।

गांववाले कह रहे विधायक के भाई ने पीटा
गांव के लोग इस मामले में दबी जुबान से कह रहे हैं कि विधायक का भाई अतुल अपने कुछ साथियों के साथ पीड़ित लड़की के पिता को घसीटकर बाहर लाया। फिर बंदूक की बट से पिटाई की। जब हमलावर चले गए, तो पुलिस आई और उसने पीड़ित के पिता को ही गिरफ्तार कर लिया और फिर जेल भेज दिया।

सुप्रीम कोर्ट में गूंजा मामला, NHRC ने मांगी रिपोर्ट
इस मामले में वकील एमएल शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर पीड़ित के पिता की मौत की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। बता दें कि एमएल शर्मा ने निर्भया गैंगरेप के दोषियों का केस सुप्रीम कोर्ट में लड़ा था। वहीं, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग यानी एनएचआरसी और यूपी मानवाधिकार आयोग ने पूरे मामले में योगी सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

विधायक का धमकाने वाला ऑडियो वायरल
इस मामले में विधायक सेंगर की मुश्किल एक ऑडियो के सामने आने से बढ़ती दिख रही है। इस ऑडियो टेप में सेंगर की पीड़ित के चाचा से कथित तौर पर बातचीत है। दोनों एक-दूसरे के खिलाफ फर्जी मुकदमा लिखाने का आरोप लगाते सुनाई दे रहे हैं। पीड़ित लड़की का चाचा कहता है कि विधायक के भाई अतुल को उसने फोन किया था, लेकिन इसके बाद भी उसने बड़े भाई को पीटा। इसके बाद विधायक समझौते की बात करते सुनाई देते हैं। वो पीड़ित के चाचा से कहते हैं कि आप अपनी अम्मा को भेजना, साथ चाय पीयेंगे। जो हुआ उसे भूल जाओ, लड़ाई में सबका नुकसान होता है।

Related Post

कर्नाटक लोकायुक्त को ऑफिस में घुसकर चाकू से गोदा, हमलावर गिरफ्तार

Posted by - March 7, 2018 0
लोकायुक्‍त विश्‍वनाथ शेट्टी अस्‍पताल में भर्ती, शिकायतकर्ता तेजस शर्मा ने किया हमला बेंगलुरु। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में एक व्यक्ति…

टीवी शो के जरिए समझाया जा सकता है सुरक्षित सेक्स, अभियान से नहीं होता कोई फायदा

Posted by - September 27, 2018 0
नई दिल्ली। सुरक्षित सेक्स को समझाने के लिए किसी भी जागरूक अभियान से ज्यादा टीवी शो फायदेमंद है। बिहेवियर में…

रेणुका चौधरी मामले पर राज्यसभा में हंगामा, कांग्रेस बोली – माफी मांगें पीएम

Posted by - February 8, 2018 0
नई दिल्ली। कांग्रेस की वरिष्ठ नेता रेणुका चौधरी की हंसी को लेकर पीएम मोदी द्वारा दिए गए बयान पर गुरुवार…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *