चंपारण सत्याग्रह के 100 साल पर मोदी का मंत्र, लटकाना, अटकाना, भटकाना बंद हो  

145 0

पटना। महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह के 100 साल पूरे होने पर पीएम नरेंद्र मोदी ने नया मंत्र देश को दिया है। मोदी ने चंपारण में आज एक कार्यक्रम में साफ कहा कि लटकाने, अटकाने और भटकाने की परंपरा खत्म होनी चाहिए। मोदी ने इस मौके पर बिहार को कई सौगात भी दी।

मोदी ने क्या कहा ?
मोदी ने लटकाने, अटकाने और भटकाने की परंपरा खत्म करने पर जोर देते हुए कहा कि उनकी सरकार सबका साथ, सबका विकास के मंत्र पर चल रही है। मोदी ने कहा कि देश के 350 से ज्यादा जिलों को खुले में शौच मुक्त करना है। उन्होंने कहा कि देशभर में कचरा महोत्सव मनाया जाना चाहिए। पीएम मोदी ने कहा कि स्वच्छाग्रह कार्यक्रम से लोगों में साफ-सफाई के प्रति सकारात्मक संदेश जाएगा।

महात्मा गांधी को किया याद
मोदी ने इस दौरान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और चंपारण सत्याग्रह को याद किया। मोदी ने कहा कि 100 साल पहले चंपारण से महात्मा गांधी ने अपना आंदोलन शुरू किया और पूरे देश को इससे जोड़ दिया। मोदी ने कहा कि स्वच्छता का महत्व हर घर की मां और बहन जानती हैं। उन्होंने कहा कि जहां खुले में शौच नहीं होता, वहां बच्चे डायरिया और अन्य बीमारियों से कम पीड़ित होते हैं।

क्या था महात्मा गांधी का चंपारण सत्याग्रह ?

महात्मा गांधी ने 10 अप्रैल 1917 को बिहार के लोगों में अशिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी, हुनर की कमी, स्वच्छता की कमी और महिलाओं के सशक्तिकरण को लेकर चलो चंपारण अभइयान की शुरुआत की थी। मोदी ने इस सत्याग्रह के 100 साल पूरे होने पर 10 स्वच्छाग्रहियों को सम्मानित भी किया।

Related Post

केदारनाथ के बाद अब खुले बदरीनाथ के कपाट, हजारों भक्तों ने लगाया जयकारा

Posted by - April 30, 2018 0
जोशीमठ। केदारनाथ के कपाट खुलने के एक दिन बाद सोमवार को बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर भगवान बदरीनाथ मंदिर के…

महराजगंज में एंटी रोमियो अभियान में पकड़े 6 नवयुवक, पुलिस ने भेजा जेल

Posted by - June 1, 2018 0
शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’ महराजगंज। पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह के निर्देश पर गुरुवार शाम पुलिस की एंटी रोमियो टीम ने…

जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजों का स्कूल बस पर हमला, 2 छात्र घायल

Posted by - May 2, 2018 0
शोपियां। जम्मू-कश्मीर में अब तक आतंकियों को सुरक्षाबलों से बचाने के लिए पत्थरबाजी होती रही है, लेकिन ताजा घटना में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *