Breaking News

सीरिया में हेलीकॉप्टर से रासायनिक हमला, 80 लोगों की मौत, सैकड़ों घायल

12 0
  • अमेरिका और ब्रिटेन ने सीरियाई राष्‍ट्रपति असद और रूस को हमले के लिए ठहराया जिम्‍मेदार

दमिश्‍क। सीरिया के पूर्वी गोउटा के विद्रोहियों के कब्जे वाले अंतिम शहर दौमा में कथित रूप से हुए रासायनिक हमले में कम से कम 80 लोग मारे गए हैं। चिकित्सकों और बचाव कर्मियों ने रविवार (8 अप्रैल) को यह जानकारी दी। बीबीसी के मुताबिक, स्वयंसेवी बचाव दल व्हाइट हेलमेट्स ने ग्राफिक तस्वीरें पोस्ट की है, जिनमें शनिवार (7 अप्रैल) को हुए हमले के बाद बेसमेंट में पड़े कई शव नजर आ रहे हैं। उधर, सीरिया और रूस दोनों ही देशों ने ऐसे किसी हमले से इनकार किया है।

सीरिया में रासायनिक हमले में घायल लोगों का अस्पताल में चल रहा है इलाज, इनमें बच्चों की संख्या अधिक है

मरने वालों में महिलाएं और बच्‍चे ज्‍यादा

सीरिया की राजधानी दमिश्क के निकट दौमा में हुए रासायनिक हमले ने पूरी दुनिया की नींद उड़ा दी है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हमले के बाद लोगों को सांस लेने में काफी मुश्किल हो रही है। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हेलिकॉप्टर से विषाक्त नर्व एजेंट सरीन से युक्त बैरल बम गिराया गया था। सीरियाई अस्पतालों के साथ काम करने वाली एक अमेरिकी चैरिटी संस्था यूनियन मेडिकल रिलीफ ने बताया कि दमिश्क रूरल स्पेशलिटी हॉस्पिटल ने 80 लोगों की मौत की पुष्टि की है। मरने वालों की संख्या अभी बढ़ सकती है, क्योंकि जो घायल हुए हैं उनकी हालत बहुत नाजुक बताई जा रही है। महिलाएं और बच्चे इस विनाशकारी हमले के सबसे ज्यादा शिकार हुए हैं।

ट्रंप ने राष्‍ट्रपति असद को कहा ‘जानवर’

इस विनाशकारी हमले के लिए ब्रिटेन और अमेरिका ने रूस और सीरियाई राष्‍ट्रपति असद को जिम्‍मेदार ठहराया है। ब्रिटेन ने इस घटना की तुरंत जांच कराने की मांग की है। रासायनिक हमलों को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कड़ी नाराजगी जताई है। उनकी नाराज़गी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि ट्रंप ने सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद को ‘जानवर’ कहकर संबोधित किया और उन्हें समर्थन दे रहे रूस और ईरान की कड़ी आलोचना की है।

Related Post

CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने की तैयारी में कांग्रेस

Posted by - March 27, 2018 0
कांग्रेस ने ड्राफ्ट बनवाकर कई पार्टियों के पास बंटवाया, साथ आए करीब आधा दर्जन दल नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चार…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *