चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ अब महाभियोग नहीं लाएगी कांग्रेस

24 0
  • लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे बोले – ऐसा कोई विचार नहीं

नई दिल्‍ली। भारत के मुख्‍य न्‍यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने की तैयारी कर रही कांग्रेस अब इससे पीछे हटती दिखाई दे रही है। बीते कुछ दिनों से चर्चा थी कि कांग्रेस अन्य विपक्ष पार्टियों को साथ लेकर चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग लाने की तैयारी कर रही है। लेकिन अब लोकसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है इससे इनकार कर दिया है।

क्‍या कहा कांग्रेस नेता खड़गे ने ?

एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि अब ये मुद्दा करीब-करीब बंद हो गया है। लोकसभा में कभी हमने इस मुद्दे को नहीं उठाया, राज्‍यसभा में जरूर इसको लेकर चर्चा थी, लेकिन अब वहां पर भी ऐसा नहीं हो रहा है। बता दें कि ऐसी चर्चा थी कि राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने के लिए करीब 60 सांसदों का समर्थन हासिल कर लिया था। इनमें कांग्रेस के अलावा लेफ्ट, सपा, बसपा, एनसीपी जैसी पार्टियां भी थीं।

कांग्रेस में ही नहीं था एकमत !

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के अंदर ही कई नेताओं में इस मुद्दे पर एक राय नहीं थी। पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाने के पक्ष में नहीं थे। उन्होंने अपनी यह राय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी बता दी थी। कांग्रेस के कुछ नेताओं को लगता है कि इस कदम से बीजेपी को सियासी फायदा मिल सकता है।

डीएमके और सपा भी हटीं पीछे

चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग के प्रस्‍ताव पर शुरू में डीएमके के तीन राज्यसभा सांसदों ने भी हस्‍ताक्षर किए थे, लेकिन डीएमके नेतृत्‍व द्वारा इस मुद्दे पर हरी झंडी न मिलने के कारण गुरुवार को उसके सांसद पीछे हट गए। यही नहीं, समाजवादी पार्टी ने भी कहा था कि वह इस मुद्दे पर समर्थन देने का विचार कर रही है, लेकिन बाद में उसने भी अपने कदम पीछे खींच लिये। ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस का रवैया भी ढुलमुल ही लग रहा है। वह अन्‍य पार्टियों के आगे आने का इंतजार कर रही थी।

Related Post

राबड़ी देवी और उनकी बेटी हेमा की तीन बेनामी संपत्तियां हुईं जब्त

Posted by - October 7, 2017 0
पटना। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के परिवार की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। बेनामी या अवैध संपत्ति मामले में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *