5 करोड़ नहीं, फेसबुक के 8.7 करोड़ यूजर्स के डाटा में लगी थी सेंध

48 0
  • फेसबुक के प्रमुख तकनीकी अधिकारी माइक स्क्रोफर ने किया बड़ा खुलासा
  • भारत के साढ़े 5 लाख से अधिक यूजर्स का डाटा कैंब्रिज नालिटिका को दिया

वॉशिंगटन। फेसबुक ने कहा है कि ब्रिटेन की राजनीतिक परामर्शदाता कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने उसके करीब 8 करोड़ 70 लाख के डाटा में सेंध लगाई है। उसने बुधवार को इस बात की पुष्टि की। यह पहले के पांच करोड़ के अनुमान से कहीं बहुत अधिक है। बताया जा रहा है कि इसमें भारत के भी 5 लाख से अधिक लोगों का निजी डेटा शामिल है।

प्रमुख तकनीकी अधिकारी ने दी जानकारी

फेसबुक के प्रमुख तकनीकी अधिकारी माइक स्क्रोफर ने एक बयान में यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा, ‘हमारा मानना है कि कुल मिलाकर फेसबुक पर 8 करोड़ 70 लाख लोगों की निजी जानकारी अनुचित रूप से कैंब्रिज एनालिटिका से साझा की गई। इनमें से ज्यादातर यूजर्स अमेरिका के थे।’ इस खुलासे के बाद फेसबुक के लिए संकट और बढ़ सकता है।

कहां, कितने डेटा हुए लीक

अबतक के आंकड़ों के आधार पर तैयार की गई सूची के मुताबिक अमेरिका इसमें टॉप पर है। यहां के 7 करोड़ 8 लाख यूजर्स का डेटा लीक हुआ है। इसके बाद दूसरे स्थान पर इंडोनेशिया और ब्रिटेन हैं, जहां के करीब 11 लाख यूजर्स का डेटा लीक हुआ। भारत का स्‍थान सातवां है। भारत के करीब 5 लाख 62 हजार यूजर्स का डेटा कैंब्रिज एनालिटिका के साथ साझा किया गया।

नया प्राइवेसी टूल लागू होगा

फेसबुक के प्रमुख तकनीकी अधिकारी माइक स्क्रोफर ने सोशल नेटवर्क के यूजर्स के लिए नया प्राइवेसी टूल लागू करने की भी घोषणा की। स्क्रोफर ने कहा कि आने वाले सोमवार (9 अप्रैल) से नए टूल्स से यूजर्स को प्राइवेसी और डेटा साझा करने की नई व्‍यवस्‍था मिलेगी। फेसबुक के अनुसार, नई सेवा शर्तों से डेटा साझा करने और विज्ञापन किस तरह पहुचंते है, इसके बारे में तस्वीर साफ हो जाएगी। स्क्रोफर ने कहा कि नए बदलावों से बाहरी व्यक्ति का यूजर डेटा तक पहुंचना काफी मुश्किल हो जाएगा। इस नई व्‍यवस्‍था में फेसबुक सर्च के साथ किसी सटीक लोकेशन का पता लगाने के लिए उसका फोन नंबर या ईमेल एड्रेस एंटर नहीं किया जा सकेगा।

गलतियों के बावजूद, मैं ही ‘राइट च्वाइस’ : जुकरबर्ग

उधर, फेसबुक के मुख्य कार्याधिकारी मार्क जुकरबर्ग ने कहा है कि तमाम गलतियों के बावजूद फेसबुक को लीड करने के लिए वही ‘राइट च्‍वाइस’ हैं। बुधवार को फेसबुक के शेयर 1.4 प्रतिशत गिरकर 153.90 प्रति डॉलर पहुंच गए। बता दें कि कैंब्रिज एनालिटिका प्रकरण के बाद फेसबुक के शेयर में 16 प्रतिशत की गिरावट आई है।

11 अप्रैल को अमेरिकी संसद में पेश होंगे जुकरबर्ग  

बता दें कि यूजर्स से जुड़ी जानकारी लीक होने की खबर सामने आने के बाद फेसबुक की खूब किरकिरी हुई है। फेसबुक इस मामले में जांच का सामना कर रहा है। अमेरिका की वाणिज्य विषयक संसदीय समिति ने जुकरबर्ग को तलब किया है। फेसबुक के मुख्य कार्याधिकारी मार्क जकरबर्ग 11 अप्रैल को संसद की स​मिति के समक्ष हाजिर होंगे। समिति का मानना है कि सुनवाई के बाद ग्राहक डेटा गोपनीयता से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों पर और जानकारी मिलेगी।

Related Post

कायराना हरकत : कश्मीर में आतंकियों ने पुलिसवालों के 9 परिजनों को किया अगवा

Posted by - August 31, 2018 0
श्रीनगर। कश्‍मीर घाटी में सुरक्षाबलों की कार्रवाई से बौखलाए आतंकी संगठनों ने अब पुलिसकर्मियों के परिवार को निशाना बनाना शुरू…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *