भारत बंद के दौरान कई राज्यों में व्यापक हिंसा, 10 लोगों की मौत, तोड़फोड़ व आगजनी

80 0

 

  • मध्‍य प्रदेश में सबसे ज्‍यादा हिंसा, 6 लोगों की मौत, यूपी में 2 की जान गई, मेरठ में पुलिस चौकी फूंकी
  • एससी/एसटी एक्ट पर SC के फैसले के खिलाफ केंद्र की पुनर्विचार याचिका पर फौरन सुनवाई से इनकार

नई दिल्ली। एससी-एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ दलितों के सोमवार (2 अप्रैल) को भारत बंद दौरान कई राज्‍यों में हिंसा की घटनाएं हुई हैं। इसका असर देश के 10 राज्यों में देखा गया। यूपी, मध्य प्रदेश, बिहार, पंजाब, हरियाणा, गुजरात, उड़ीसा, झारखंड और राजस्थान में बड़े पैमाने पर हिंसा हुई और गाड़ियों में तोड़फोड़ व आगजनी की गई। मध्य प्रदेश में हिंसा के दौरान 6, यूपी में दो, बिहार और राजस्थान में एक-एक व्‍यक्ति की मौत हो गई है। मध्‍य प्रदेश में हिंसा के बाद प्रशासन ने कई स्‍थानों पर कर्फ्यू लगा दिया है।

केंद्र ने दायर की पुनर्विचार याचिका

केंद्र सरकार ने एक्ट में बदलाव के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दी है। केंद्र ने अपनी याचिका में कहा है कि कानून बनाना संसद का काम हैं। केंद्र ने यह भी दलील दी कि किसी भी कानून को सख़्त बनाने का अधिकार भी संसद के पास ही है। केंद्र सरकार ने अपनी याचिका में कहा है कि समसामयिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कैसा कानून बने ये संसद या विधानसभा तय करती है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस पर फौरन सुनवाई से इनकार कर दिया है।

मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा 6 मौतें

राज्य के करीब 10 से ज्यादा जिलों में विरोध-प्रदर्शन हुआ। ग्वालियर, भिंड और मुरैना में भारी हिंसा हुई। इसमें मुरैना में 3 और ग्वालियर में 2 लोगों की मौत हुई है, वहीं देवरा में भी एक व्यक्ति की मौत की खबर है। ग्वालियर में लोगों की मौत के बाद पूरे शहर में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। वहीं, लहार, गोहद और मेहगांव समेत भिंड के कुछ इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। मुरैना स्टेशन क्षेत्र इलाके में कई दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया। छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस को रोककर उसके शीशे तोड़ दिए गए। हिंसा में पुलिस और मीडियकर्मी भी घायल हो गए।

ग्वालियर में टोल प्लाजा में तोड़फोड़ की गई। कई जगह सड़क पर वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया। पांच थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। वॉटसऐप पर गलत खबरें और अफवाहें ना फैलें इसके लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया। प्रदेश के इंदौर, सिवनी, रतलाम, उज्जैन, झाबुआ और जबलपुर में बंद का मिला-जुला असर रहा।

उत्तर प्रदेश में 2 लोगों की मौत

यूपी में दलितों के हिंसक प्रदर्शन में अब तक 2 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 35 लोग घायल हुए हैं। इनमें से 3 की हालत गंभीर बताई जा रही है। मुजफ्फरनगर में एक शख्स की मौत हो गई, वहीं तीन जख्मी हो गए। बिजनौर में एक बीमार व्यक्ति की रैली के दौरान फंसने से मौत गई। दलित प्रदर्शनकारियों ने मुजफ्फरनगर में पुलिस थाना तो मेरठ में एक पुलिस चौकी को फूंक दिया और 2 बसें समेत कई वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया। यूपी की राजधानी लखनऊ में अंबेडकर की प्रतिमा के सामने भी दलित संगठनों के कार्यकर्ता जुटे और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। यहां बड़ी तादाद में पुलिस तैनात की गई थी। दिल्ली-गाजियाबाद रोड पर एम्स के डॉक्टरों की बस पर हमला किया गया, हालांकि इसमें कोई हताहत नहीं हुआ। मेरठ, गोरखपुर, सहारनपुर, हापुड़, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मथुरा, इलाहाबाद, गाजियाबाद और आगरा समेत कई जिलों में प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्पात मचाया। प्रदर्शनकारियों ने इलाहाबाद और गाजियाबाद में रेलवे ट्रैक जाम किया। हापुड़ में पत्थरबाजी करने वालों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। आग बुझाने पहुंची दमकल की टीम पर पथराव हुआ।

राजस्थान के अलवर में एक की मौत

अलवर जिले के खैरथल इलाके में हुई हिंसा में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। बाड़मेर में दलित संगठनों और करणी सेना के बीच झड़प हुई, जिसमें 25 लोग जख्मी हो गए। भरतपुर में महिलाएं हाथों में लाठियां लेकर सड़कों पर प्रदर्शन करती दिखीं। अलवर में एक मकान में आग लगाने की कोशिश की गई। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की गाड़ी में आग लगा दी। पुष्कर में कई वाहनों में तोड़फोड़ की गई।

बिहार के वैशाली जिले में प्रदर्शन के दौरान जाम में एंबुलेंस फंसने से एक नवजात की मौत हो गई।

बिहार में एंबुलेंस फंसने से एक बच्चे की मौत

हिंसा की आग बिहार के कई शहरों तक भी पहुंची। वैशाली में प्रदर्शनकारियों ने एक एंबुलेंस को रोक लिया। मां गुहार लगाती रही, लेकिन प्रदर्शनकारियों पर कोई असर नहीं हुआ। जाम में फंसे रहने के कारण एक नवजात की मौत हो गई। हाजीपुर में बंद समर्थकों ने कोचिंग संस्थान पर हमला कर छात्रों की साइकिल और डेस्क में आग लगा दी। इसके अलावा भागलपुर, अररिया, सुपौल, मधुबनी, दरभंगा, जहानाबाद और आरा में भीम सेना के लोगों ने रेल रोकी और सड़कों पर जाम लगा दिया। गया में भी संघर्ष दिखाई दिया। पुलिस को यहां प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज करना पड़ा।

झारखंड में जबरन बंद कराए बाजार, ट्रेनें रोकीं

भारतबंद के दौरान रांची से 763 और सिंहभूम से 850 लोगों को हिरासत में लिया गया है। रांची में प्रदर्शनकारियों ने जबरन बाजार बंद कराए। यहां प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प में कई लोग घायल हो गए हैं। टाटानगर में दलित सेना के प्रदर्शनकारियों ने रेलवे ट्रैक को जाम कर हंगामा किया। जमशेदपुर में ट्रक को आग लगा दी गई। रांची वीमेंस कॉलेज के पास पुलिस और छात्र आपस में भिड़ गए। इसमें एसपी, डीएसपी समेत करीब 10 पुलिसकर्मी घायल हो गए।

अहमदाबाद में बसों पर पथराव, राजकोट में भी तोड़फोड़

आंदोलनकारियों के उग्र प्रदर्शन की वजह से अहमदाबाद में बस सर्विस को बंद करना पड़ा। कई जगह पथराव किया गया। आंदोलनकारियों ने पाटन, हिम्मतनगर, थराद, नवसारी, भरूच, जूनागढ़, धानेरा, भावनगर, जामनगर, अमरेली, तापी, साणंद के अलावा राज्य के और भी इलाकों में रैलियां निकालीं।  कच्छ जिले के गांधीधाम में सरकारी वाहन पर पथराव किया गया। जूनागढ़, राजकोट, राजुला, चोटिला के अलावा दूसरे इलाकों से भी आगजनी और पथराव की खबरें हैं।

हरियाणा में 50 पुलिसकर्मी जख्मी

कैथल में प्रदर्शनकारी रोडवेज डिपो में घुस गए। यहां टिकट काउंटरों पर तोड़फोड़ की गई। इसके बाद नेशनल हाईवे-1 बंद कर दिया गया। एक ट्रेन इंजन पर पथराव किया गया। पुलिस ने भीड़ को खदेड़ने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। यहां पुलिस-प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई। पुलिस फायरिंग में 10 लोग घायल हुए। पथराव में 50 पुलिसकर्मी जख्मी हुए।

पंजाब में 10वीं और 12वीं की परीक्षा स्थगित 

पंजाब में भी भारत बंद का व्यापक असर देखने को मिला। पंजाब पुलिस ने एहतियातन लुधियाना में 4000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया है। बंद के कारण पंजाब में सभी स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं, साथ ही सोमवार को होने वाली सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की परीक्षा भी स्थगित कर दी गई। पूरे प्रदेश में इंटरनेट सेवाएं सोमवार शाम तक बंद कर दी गई हैं।

क्या था सुप्रीम कोर्ट का आदेश ?
20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि एससी/एसटी एक्ट के तहत अफसरों पर केस चलाने के लिए संबंधित प्राधिकारी से मंजूरी लेनी होगी। साथ ही आम लोगों की दलित उत्पीड़न के केस में तुरंत गिरफ्तारी नहीं की जा सकेगी। कोर्ट ने कहा था कि ऐसे मामलों में डीएसपी स्तर का अफसर जांच करेगा कि केस कहीं बदला लेने के लिए तो दर्ज नहीं कराया गया है।

 

Related Post

मुख्य सचिव से मारपीट : केजरीवाल-सिसोदिया को कोर्ट में पेश होने का आदेश

Posted by - September 18, 2018 0
नई दिल्‍ली। दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट के मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट…

पीएनबी महाघोटाला : पूर्व डिप्टी मैनेजर शेट्टी समेत तीन लोग सीबीआई की गिरफ्त में

Posted by - February 17, 2018 0
सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने शेट्टी, मनोज खराट और हेमंत भट्ट को 14 दिन की रिमांड पर भेजा आईटी डिपार्टमेंट…

SC का आदेश – जासूसी कांड में बरी पूर्व इसरो वैज्ञानिक को दें 50 लाख रुपये मुआवजा

Posted by - September 14, 2018 0
नई दिल्ली। इसरो जासूसी कांड में सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया है। इस मामले में जासूसी के आरोप से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *