महाराष्ट्र में अब चाय घोटाला, रोज 18,500 कप चाय पी गया सीएमओ

42 0
  • कांग्रेस का आरोप – पिछले दो वर्षों की तुलना में 2017-18 में 577 प्रतिशत बढ़ गया चाय-पानी का खर्च

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के कार्यालय के चाय-पानी के खर्च में पिछले दो साल में करीब 577 फीसदी का इजाफा हुआ है। मुख्यमंत्री कार्यालय में रोजाना लगभग 18, 500 कप चाय पी जा रही है। यह गंभीर आरोप मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने लगाया है। हालांकि सीएम ऑफिस की ओर से कहा गया है कि इसमें सिर्फ चाय ही नहीं बल्कि अन्य खर्च भी शामिल हैं।

आरटीआई से मिली जानकारी

संजय निरुपम ने आरटीआई से मिली जानकारी के आधार पर मुख्यमंत्री कार्यालय में चाय-पानी घोटाला होने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा, ‘मुख्यमंत्री कार्यालय ने वर्ष 2015-16 में चाय-पानी पर 57 लाख 99 हजार और वर्ष 2016-17 में 1 करोड़ 20 लाख रुपये खर्च किए गए। अब 2017-18 में यह खर्च पिछले दो वर्षों की तुलना में 577 प्रतिशत बढ़कर 3 करोड़ 34 लाख रुपये हो गया है।’ उन्होंने कहा, ‘चाय पर हुआ खर्च चौंकाने वाला है। सीएमओ में रोजाना 18,591 कप चाय की खपत है, यह कैसे संभव है?’

सीएम ऑफिस ने दी सफाई

यह मामला उठने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय ने बयान जारी कर संजय निरुपम के आरोपों को गलत बताया। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि निरुपम जिस खर्च का जिक्र कर रहे हैं, असल में वह सिर्फ मुख्यमंत्री सचिवालय का नहीं है बल्कि मंत्रालय, सह्याद्री अतिथिगृह, वर्षा निवास स्थान, नागपुर के रामगिरी और हैदराबाद हाउस का संयुक्त खर्च है।

मंत्रालय और सीएमओ आने वालों की संख्या बढ़ी

सीएम ऑफिस ने यह दलील भी दी है कि मंत्रालय और मुख्यमंत्री सचिवालय आने वालों की संख्या में इन दिनों भारी बढ़ोतरी हुई है। सरकारी बैठकों की संख्या भी बढ़ी है। पहले विभागवार होने वाली बैठकों पर होने वाले चाय-पानी का खर्च संबंधित विभाग देता था, परंतु अब सभी बैठकों का खर्च मुख्यमंत्री सचिवालय द्वारा दिया जाता है, जिसके कारण इस खर्च में इजाफा दिखाई दे रहा है।

Related Post

अब एलईडी बल्ब से सुपरफास्ट इंटरनेट, 10 जीबी/सेकेंड होगी स्पीड

Posted by - January 30, 2018 0
इन्फॉर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी मिनिस्ट्री ने किया इस तकनीक का सफल परीक्षण नई दिल्ली। 4जी इंटरनेट के दौर में अगर घर में लगे…

युगांडा के प्रेसिडेंट बोले – मुंह खाने के लिए है, ओरल सेक्स के लिए नहीं

Posted by - April 21, 2018 0
राष्‍ट्रपति योवेरी मुसेवेनी ने कहा – यहां ओरल सेक्स को बढ़ावा दे रहे हैं बाहर से आए लोग नई दिल्ली। लोगों…

सुप्रीम कोर्ट ने कहा – जनहित याचिकाओं का हो रहा बेजा इस्तेमाल, पुनर्विचार की जरूरत

Posted by - November 25, 2017 0
नई दिल्ली  : जनहित याचिकाओं के दुरुपयोग पर चिंता जताते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि इस व्यवस्था पर अब…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *