Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

OMG : मुंह में पानी ला देने वाली जलेबी नहीं है हमारे देश की मिठाई !

261 0

नई दिल्ली। यूं तो मिठाई देखकर हमारा और आपका मन इसे खाने के लिए ललचाता ही है, लेकिन मिठाई में सबसे ज्यादा फेमस है जलेबी। देश का शायद ही कोई हिस्सा हो, जहां जलेबी नहीं खाई जाती है, लेकिन अगर आपको पता चले कि जिस जलेबी को देखकर आपके मुंह में पानी आ जाता है, वो हमारे देश की है ही नहीं तो ! पड़ गए न हैरत में आप ? चलिए, आज आपको जलेबी के इतिहास से परिचित कराते हैं।

जलेबी नहीं जलाबिया !
जी हां, जलेबी का असली नाम जलाबिया है। ये करीब 700 साल पुरानी मिठाई है। 13वीं सदी में लिखी ‘किताब अल-तबीक़’ में इस मिठाई को जलाबिया का नाम दिया गया है। पश्चिम एशिया यानी अरब जगत की ये मिठाई है। भारत में ये मिठाई अरब लोग ही लाए थे और आज हम सब इसे बड़े चाव से खाते हैं। यूपी की राजधानी लखनऊ समेत देश में तमाम इलाके ऐसे हैं, जहां सुबह का नाश्ता बगैर दही-जलेबी के अधूरा माना जाता है। वैसे पंजाब की तरह कई जगह जलेबी शाम को मिलती है।

जलाबिया का जलेबी नाम कैसे पड़ा ?
अरब जब भारत आए, तो यहां उन्होंने जलाबिया बनाना शुरू किया। 15वीं सदी में जैन लेखक जिनासुर ने अपनी प्रसिद्ध किताब ‘प्रियमकर्नाप कथा’ में इस मिठाई को जलेबी का नाम दिया। अब देश के अलग-अलग हिस्सों में जलेबी कई नामों से प्रसिद्ध है। कहीं इसे जिलबी कहते हैं, कहीं जेलापी, जिलिपी, जिलापीर, जहांगीरी और पाक भी इसका नाम हो गया है। जलेबी को संस्‍कृत में ‘कुंडलिका’ कहते हैं।

कैसे बनती है जलेबी ?
भारत में जलेबी मैदे से बनती है, लेकिन दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में इसे आटा और बेसन से भी बनाया जाता है।

Related Post

राहुल बोले – मैंने और प्रियंका ने पापा के हत्यारों को पूरी तरह माफ किया

Posted by - March 11, 2018 0
सिंगापुर में कांग्रेस अध्‍यक्ष ने आईआईएम छात्रों से अपने परिवार को लेकर की बात कहा – जब आप शक्तिशाली लोगों…

राष्ट्रगान के समय बारिश में बिना छतरी के खड़े रहे राष्ट्रपति कोविंद

Posted by - October 9, 2017 0
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रगान के सम्मान में बारिश में भीगते रहे, लेकिन उन्होंने छाता नहीं लिया. माता अमृतानंदमयी मठ में…

अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द कराने सुप्रीम कोर्ट पहुंचीं प्रिया प्रकाश

Posted by - February 19, 2018 0
याचिका दायर कर तेलंगाना, महाराष्ट्र और अन्‍य जगह दर्ज एफआईआर को रद्द करने की मांग नई दिल्ली। एक छोटे से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *