अब नाटो ने रूस के 7 राजनयिकों को निकाला, मान्यता ली वापस

113 0
  • यूरोपीय यूनियन के सदस्‍य देश भी अपने यहां से रूसी राज‍नयिकों को करेंगे निष्‍कासित

ब्रसेल्स। सेलिसबरी में रूस द्वारा कथित तौर पर अपने पूर्व जासूस पर नर्व एजेंट हमले को लेकर रूसी राजनयिकों को निकालने वालों में अब नाटो का नाम भी जुड़ गया है। नाटो (North Atlantic Treaty Organisation) ने मंगलवार को घोषणा कि उसने सात रूसी अधिकारियों से मान्यता वापस ले ली है। यही नहीं, नाटो ने तीन अन्‍य रूसी राजनयिकों को भी परिचय पत्र देने से इनकार कर दिया है।

रूस के लिए स्‍पष्‍ट संदेश

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रसेल्स में एक संवाददाता सम्मेलन में महासचिव जेंस स्टोलनबर्ग ने कहा कि पूर्व जासूस और उनकी बेटी को जहर देने का मामला नाटो क्षेत्र में अपनी तरह का पहला हमला है। उन्होंने कहा कि नाटो के 25 सहयोगियों व साझेदारों ने इसके विरोध में 140 रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर दिया है। यह रूस के लिए स्पष्ट संदेश है कि उसे अपने दुस्साहसी व्यवहार के परिणाम भुगतने होंगे।

किन-किन देशों ने निकाले रूसी राजनयिक ?

अमेरिका ने इस मामले में यूरोपीय देशों का साथ देते हुए 60 रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर दिया था, वहीं ब्रिटेन ने भी 23 रूसी राजनयिकों को बाहर निकाल दिया था। बताया जा रहा कि यूरोपीय संघ के सदस्य जर्मनी, फ्रांस, पोलैंड भी अपने देश से चार-चार राजनयिकों को निष्कासित करने वाले हैं। वहीं लिथुआनिया और चेक गणराज्य रूस के तीन-तीन राजनयिकों को निकालेंगे। डेनमार्क, इटली व नीदरलैंड ने दो-दो राजनयिक निष्कासित करने की बात कही है।

Related Post

दहेज उत्‍पीड़न में सीधे गिरफ्तारी पर फिर से विचार करेगा सुप्रीम कोर्ट

Posted by - November 29, 2017 0
एनजीओ मानव अधिकार मंच ने दाखिल की है याचिका, जनवरी के तीसरे हफ्ते में होगी सुनवाई नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट दहेज…

रेप के आरोपी बाबा वीरेंद्र देव के दिल्‍ली आश्रम में पुलिस का छापा

Posted by - December 20, 2017 0
बाबा की अनुयायी युवती और बुजुर्ग चौकीदार हिरासत में, कई चीजें जब्त नई दिल्ली। दिल्ली के विजय विहार में चल रहे…

केंद्र को SC की फटकार, कहा – ‘ताजमहल को सहेज नहीं सकते तो गिरा दें’

Posted by - July 11, 2018 0
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने ताजमहल के संरक्षण को लेकर उठाए गए कदमों को लेकर केंद्र, उप्र सरकार तथा उसके प्राधिकारियों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *