UBI को पैसे नहीं मिले तो ‘डिफॉल्टर्स’ घोषित होगा पंजाब नेशनल बैंक !

44 0
  • पहली बार एक सरकारी बैंक दूसरे बैंक को डिफॉल्टर की कैटेगरी में डालेगा

नई दिल्ली। पीएनबी में हुए 14,000 करोड़ के घोटाले के बाद भी बैंक की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब भारतीय बैंकिंग के इतिहास में पहली बार ऐसा होने जा रहा है, जब एक सरकारी बैंक दूसरे बैंक को डिफॉल्टर की कैटेगरी में डालेगा।

दरअसल, पंजाब नेशनल बैंक की ओर से जारी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (LoU) के आधार पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने करीब 1000 करोड़ रुपए के लोन दिए थे, जिनकी अदायगी पीएनबी को 31 मार्च तक करनी है। अब अगर पीएनबी 31 मार्च तक यूबीआई को लोन की यह रकम नहीं लौटाता है तो यूबीआई उसे डिफाल्‍टर कैटेगरी में डाल सकता है।

पीएनबी पर क्‍या पड़ेगा इसका असर?
सवाल ये उठता है कि अगर पीएनबी डिफॉल्टर लिस्ट में जाता है तो इसका असर क्‍या होगा ? क्या इससे पीएनबी को नुकसान होगा ? बैंकिंग के जानकारों का मानना है कि यूनियन बैंक अगर पीएनबी को डिफॉल्टर की कैटेगरी में डालता है तो इससे पीएनबी को कोई नुकसान नहीं होगा, बल्कि इससे उसे फायदा ही पहुंचेगा। इसका कारण यह है कि डिफाल्‍टर की सूची आने के बाद उसे लोन के 1000 करोड़ रुपए नहीं चुकाने होंगे।

सरकार कर सकती है बीच-बचाव
सरकार ने अभी तक पीएनबी के घोटाले के मामले में कुछ नहीं कहा है। यूबीआई के पैसे लौटाने के मामले में भी सरकार का रुख अभी साफ नहीं है। एक बैंकिग एक्‍सपर्ट के मुताबिक, सरकार अभी इस मामले में नहीं पड़ेगी, क्योंकि दोनों ही सरकारी बैंक हैं। सरकार देखेगी कि कि पीएनबी 1000 करोड़ रुपये चुकाने की हालत में है या नहीं। वहीं, सरकार यह भी देखेगी कि यूनियन बैंक की स्थिति अगर लोन के 1000 करोड़ रुपये देने से सुधर सकती है, तभी सरकार पीएनबी को ये रुपये चुकाने को कहेगी।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *