CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने की तैयारी में कांग्रेस

60 0
  • कांग्रेस ने ड्राफ्ट बनवाकर कई पार्टियों के पास बंटवाया, साथ आए करीब आधा दर्जन दल

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चार जजों द्वारा आरोप लगाए जाने के बाद सुर्खियों में आए देश के मुख्‍य न्‍यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ कांग्रेस महाभियोग लाने की तैयारी कर रही है। कांग्रेस ने इस महाभियोग का प्रस्तावित ड्राफ्ट कई विपक्षी पार्टियों के पास भेजा है। एनसीपी ने महाभियोग के इस प्रस्ताव की पुष्टि भी की है। एनसीपी के नेता डीपी त्रिपाठी ने बताया कि कई विपक्षी दलों ने इस प्रस्ताव पर हस्ताक्षर भी किए हैं। एनसीपी और लेफ्ट पार्टियों ने इस प्रस्ताव पर अपनी मंजूरी भी दे दी है।

काफी पहले से चल रही थी तैयारी
बताया जा रहा है कि चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया के खिलाफ महाभियोग को लेकर विरोधी दलों में पिछले काफी समय से चर्चा चल रही थी। कांग्रेस ने यह प्रस्ताव संसद में लाने के लिए कई दलों से बातचीत भी की थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तृणमूल कांग्रेस, नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी, टीएमसी और सीपीएम सहित कई विपक्षी दलों के नेताओं से चर्चा के बाद इसे लाने का फैसला किया गया।

राज्‍यसभा में पेश करेंगे प्रस्‍ताव

सूत्रों से जानकारी मिली है कि इस प्रस्ताव को राज्यसभा में पेश किया जाएगा। राज्यसभा में पेश करने के पीछे वजह यह बताई जा रही है कि प्रस्ताव लाने के लिए कम से कम 50 सांसदों की सहमति जरूरी है। इस समय लोकसभा में विपक्ष के पास यह आंकड़ा नहीं है। राज्यसभा में विपक्ष मजबूत है, इसलिए महाभियोग के इस प्रस्ताव को राज्यसभा में लाया जाएगा।

कब लाया जाएगा महाभियोग प्रस्‍ताव ?

माना जा रहा है कि बजट सत्र के अंतिम दिनों में या फिर बाद में चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाया जा सकता है। बता दें कि पिछले 16 दिनों से संसद में लगातार गतिरोध बना हुआ है और विपक्ष अभी सदन में मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव ही नहीं ला पाया है। इस कारण संभव है कि सीजेआई के खिलाफ महाभियोग बाद में लाया जाए।

महाभियोग लाने की क्या है वजह ?
रिपोर्ट के अनुसार, सीजेआई दीपक मिश्रा के खिलाफ इसी साल जनवरी में सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने जो आरोप लगाए थे, उन्‍हीं को महाभियोग के प्रस्ताव में आधार बनाया जा रहा है। जस्टिस चेलमेश्वर के आवास पर जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस कुरियन जोसेफ और जस्टिस मदन बी लोकुर ने संयुक्त रूप से प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर कहा था कि सुप्रीम कोर्ट में सबकुछ ठीकठाक नहीं चल रहा है। आरोप है कि वरीयता के क्रम में काम नहीं दिए जाने से नाराज हुए वरिष्ठ जजों के मुद्दे को सुलझाने में दीपक मिश्रा पूरी तरह विफल रहे हैं।

Related Post

बच्‍चे की सेहत बना नहीं बल्कि बिगाड़ रहे हैं हेल्थ डिंक्स, पिलाने से पहले 2 बार सोच लें

Posted by - December 5, 2018 0
नई दिल्ली। आजकल कोई भी बच्‍चा दूध में बिना कोई हेल्‍थ ड्रिंक मिलाए दूध पीना नहीं चाहता है। अब हर…

बाजार में आएंगी ऐसी गर्भनिरोधक गोलियां, जिनका महिलाओं पर नहीं होगा दुष्प्रभाव

Posted by - November 19, 2018 0
स्टॉकहोम। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक दुनिया भर में 10 करोड़ से ज़्यादा महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल करती…

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा – केंद्रीय विद्यालयों में होने वाली प्रार्थना हिंदुत्व को बढ़ावा तो नहीं ?

Posted by - January 10, 2018 0
कोर्ट ने कहा – यह एक गंभीर संवैधानिक मामला, केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर मांगा जवाब नई दिल्‍ली। केंद्रीय…
कर्नाटक

कर्नाटक के गुलबर्गा में बोले मोदी- किसान, आम आदमी विरोधी है कांग्रेस, सफाया जरूरी

Posted by - May 3, 2018 0
गुलबर्गा। कर्नाटक में होने जा रहे विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेंद्र मोदी एक बार फिर राज्य में चुनावी जनसभा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *