OMG : दिमाग के खास हिस्से को नुकसान पर बढ़ती है सांप्रदायिक भावना !

94 0

वॉशिंगटन। आजकल देशभर में सांप्रदायिकता बढ़ने को लेकर चर्चा का दौर चल रहा है। आखिर सांप्रदायिक भावना आती कहां से है ? क्यों लोग इस भावना में बह जाते हैं ? इन सवालों का जवाब तलाशने की कोशिश अमेरिका के शोधकर्ताओं ने की है। उन्होंने शोध का नतीजा ये दिया है कि दिमाग को अगर नुकसान पहुंचा हो, तो भी सांप्रदायिक भावना किसी व्यक्ति में घर कर लेती है।

किसने किया है शोध ?
ये शोध अमेरिका की नॉर्थ वेस्टर्न यूनिवर्सिटी ने किया है। शोध और उसके नतीजों की जानकारी न्यूरोसाइकोलॉजिया नाम के जर्नल में छपी है।

शोध का क्या निकला है नतीजा ?
शोधकर्ताओं ने पाया कि दिमाग के प्री-फ्रंटल कॉर्टेक्स को नुकसान पहुंचने से लोग ज्यादा सख्त रवैये वाले हो जाते हैं। ऐसे में जिस व्यक्ति के दिमाग के इस हिस्से को नुकसान पहुंचा हो, उसमें जानने, समझने, कलात्मक और खुलेपन की कमी हो जाती है। इसकी वजह से उग्र धार्मिक विचार आसानी से ऐसे व्यक्ति को काबू कर लेते हैं।

कैसा हो जाता है बीमार शख्स ?
प्री-फ्रंटल कॉर्टेक्स पर असर पड़ने से संबंधित व्यक्ति आभासी दुनिया में जीने लगता है। उसे पुरातनपंथी विचार सही लगने लगते हैं। उसे लगता है कि जो वो सोचता है, वही सही है और उसकी सोच का विरोध करने वालों के खिलाफ बीमार व्यक्ति हिंसक तक हो जाता है।

किन पर हुआ शोध ?
न्यूरोसाइकोलॉजिया जर्नल के मुताबिक शोधकर्ताओं के साथ उनके प्रमुख जॉर्डन ग्राफमैन ने वियतनाम में जंग लड़ चुके अमेरिकी सेना के पूर्व अफसरों और जवानों पर ये शोध किया। इनमें से ज्यादातर के दिमाग के प्री-फ्रंटल कॉर्टेक्स को नुकसान पहुंचा हुआ पाया गया।

Related Post

JIO लाने जा रहा है सिम लगा लैपटॉप, अमेरिकी चिप कंपनी बनाएगी डिवाइस

Posted by - April 12, 2018 0
नई दिल्ली। लाइफ ब्रांड के स्मार्टफोन, 4G फीचर फोन और वाई-फाई डोंगल से लोगों को अपनी ओर खींचने वाला रिलायंस JIO अब…

पीएम मोदी के 60% तो ट्रंप के 37% ट्विटर फॉलोअर्स हैं फर्जी

Posted by - March 14, 2018 0
‘ट्विप्लोमेसी’ ने जारी किए दुनियाभर के नेताओं के फेक फॉलोवर्स के आंकड़े नई दिल्ली। दुनिया की सरकारी और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *