सीएम योगी के गृह जनपद में आतंकियों को धन पहुंचाने वाले नेटवर्क का खुलासा

29 0
  • एटीएस टीम ने गोरखपुर से तीन और कुशीनगर से एक संदिग्‍ध को गिरफ्तार किया
  • एटीएस ने देशभर में छापेमारी कर इस नेटवर्क से जुड़े 10 लोगों को गिरफ्तार किया

गोरखपुर। देश में दहशतगर्दी के लिए मुख्यमंत्री के जिले से आतंकवादियों को धन पहुंचाया जाता था। हवाला से आतंकी गिरोहों तक धन पहुंचाने के लिए गोरखपुर, कुशीनगर, महराजगंज से लेकर देश के विभिन्न कोनों तक आतंकियों का नेटवर्क काम कर रहा है। एटीएस ने देशभर से ऐसे 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें तीन गोरखपुर और एक कुशीनगर के व्यक्ति का नाम सामने आते ही हड़कंप मच गया है। खुफिया सूत्रों की मानें तो आतंकी इस नेटवर्क का इस्तेमाल आर्थिक मदद के लिए कर रहे थे।

गोरखपुर में दो व्‍यवसायी भाई गिरफ्तार

बता दें कि शनिवार को एटीएस ने गोरखपुर में छापेमारी कर पांच लोगों को गिरफ्तार किया था। दो बड़े व्यवसायी भाइयों की गिरफ्तारी के बाद एटीएस ने शहर के ही तीन अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया था। बताया जा रहा कि बाद में दो लोगों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया। पकड़े गए दोनों भाई शहर के बड़े मोबाइल विक्रेता हैं। एक का शहर के सबसे प्रसिद्ध बददेव प्लाजा में शोरूम है तो दूसरे का रेती पर। इसके अलावा कुशीनगर से भी एटीएस ने एक व्यक्ति को उठाया है।

50 लाख की नकदी भी बरामद

एटीएस की छापेमारी में शनिवार को गोरखपुर से 50 लाख रुपये की नकदी की भी बरामद हुई है। छापेमारी में बरामद लैपटॉप, हार्ड डिस्क, पेन ड्राइव और मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड, करीब आधा दर्जन स्वाइप मशीन, मैग्नेटिक कार्ड रीडर, देसी पिस्टल और 10 कारतूस को जब्त कर लिया गया है। बताया जा रहा कि एटीएस गिरफ्तार सभी लोगों से पूछताछ कर एक बडे़ टेरर फंडिंग नेटवर्क का खुलासा करने जा रही है।

हवाला के जरिए पहुंचाते थे पैसा

एटीएस को यह पुख्ता सूचना मिली थी कि एक नेटवर्क आतंकियों के फंडिंग के लिए काम कर रहा है। वह हवाला के जरिए धन को इधर-उधर पहुंचाता है। जब एटीएस ने छापा मारकर गोरखपुर और कुशीनगर के कुछ लोगों को उठाया और पूछताछ की तो उसके होश फाख्ता हो गए। सूत्रों के अनुसार, आरोपियों ने पूछताछ में स्वीकार किया है कि वे भारत में सक्रिय आतंकवादियों को आर्थिक मदद मुहैय्या कराते हैं।

पाकिस्‍तान से डील होता है यह नेटवर्क

लश्‍करे तय्यबा इस नेटवर्क को पाकिस्तान से डील करता था। इस नेटवर्क में देश के विभिन्न छोटे शहरों के कुछ व्यवसायी शामिल हैं। बताया जा रहा कि गोरखपुर, कुशीनगर के अलावा आजमगढ़, प्रतापगढ़, लखनऊ और मध्य प्रदेश के रीवा के साथ साथ राजस्थान के भी बॉर्डर से जुड़े कई शहरों तक यह नेटवर्क काम कर रहा है। बता दें कि नेपाल से जुड़े होने की वजह से गोरखपुर अतिसंवेदनशील माना जाता है। महराजगंज और सिद्धार्थनगर से नेपाल की सीमा सटे होने और कुशीनगर सहित आसपास के जनपदों से बिहार समीप होने के कारण देश विरोधी गतिविधियों के लिए यह क्षेत्र काफी मुफीद है।

इनकी हुई हैं गिरफ्तारियां

खुफिया सूत्रों के अनुसार, गोरखपुर से दो व्‍यवसायी भाई अरशद नईम (35), नसीम अहमद (40) और दयानंद यादव (28), कुशीनगर के पडरौना से मुशर्रफ अंसारी (23), आजमगढ़ के सुशील राय उर्फ अंकुर राय (25), लखनऊ के गांधी ग्राम के साहिल मसीह (27), मध्य प्रदेश रीवा से शंकर सिंह, गोपालगंज, बिहार से मुकेश प्रसाद (24), रानीगंज, प्रतापगढ़ के संजय सरोज (31) और प्रतापगढ़ के नीरज मिश्र (25) को गिरफ्तार किया गया है।

Related Post

पाकिस्तान ने 26/11 के हमलावरों को बचाने के लिए मुख्य अभियोजक को हटाया

Posted by - April 30, 2018 0
पाक सरकार के इस कदम से षड्यंत्रकारियों पर कानूनी शिकंजा कसने के भारत के प्रयास को झटका लाहौर/मुंबई। पाकिस्तान के गृह मंत्रालय…

चुनाव में नहीं चलेगा कालाधन, चुनावी बॉन्ड्स से ही चंदा लेंगी राजनीतिक पार्टियां

Posted by - January 2, 2018 0
चुनावी फंडिंग को साफ-सुथरा और पारदर्शी बनाने के लिए सरकार ने उठाया महत्वपूर्ण कदम वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *