Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

जुकरबर्ग बोले – भारत में लोकसभा चुनाव से पहले करेंगे डेटा सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

61 0
  • जुकरबर्ग ने कहा – हमारा ध्यान सिर्फ अमेरिकी चुनाव पर नहीं, बल्कि भारत, ब्राजील के चुनाव पर भी

 वॉशिंगटन। इन दिनों डेटा लीक विवाद में बुरी तरह फंसे फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने कहा है कि भारत जैसे देशों में आने वाले लोकसभा चुनावों की निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिए फेसबुक अपनी सुरक्षा और सर्विस को बेहतर करेगा। बता दें कि साल 2016 में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में पॉलिटिकल फर्म कैम्ब्रिज एनालिटिका पर फेसबुक यूजर्स के डेटा चुराकर चुनाव प्रभावित करने का आरोप है।

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस बेस्ड टूल बनाएंगे

जुकरबर्ग ने ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘खबरों के साथ छेड़छाड़ की कोशिश और चुनावों को प्रभावित करने वाले फर्जी फेसबुक अकाउंट की पहचान करने के लिए फेसबुक ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) बेस्ड टूल बनाएंगे। इस तरह के टूल का इस्तेमाल पहली बार 2017 में फ्रांस चुनाव में किया गया था।’ जुकरबर्ग ने कहा, ‘हमारा ध्यान केवल अमेरिकी चुनाव तक नहीं है बल्कि भारत, ब्राजील में होने वाले चुनाव और इस साल होने वाले अन्य चुनावों पर भी है, जो कि बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।’

30,000 फर्जी खाते हटाए

उन्होंने कहा, ‘नए एआई टूल को हमने 2016 चुनावों के बाद बनाया और पाया कि 30,000 से अधिक फर्जी खाते हैं जो रूसी सूत्रों से जुड़े हैं। वे उसी रणनीति के तहत काम करने की कोशिश कर रहे थे, जैसा उन्होंने अमेरिका में 2016 के चुनाव में किया था। हम इन फर्जी खातों को हटाने में कामयाब हुए हैं।’ जुकरबर्ग ने कहा, ‘पिछले साल अलबामा में हमने फर्जी अकाउंट और गलत खबरों की पहचान के लिए कुछ नए एआई टूल पेश किए थे और हमें बड़ी संख्या में मैसेडोनिया अकाउंट का पता चला, जो फर्जी खबरें फैला रहे थे और हमने उन्हें बंद किया।’

और अधिक मजबूत बनाएंगे सिस्‍टम

जुकरबर्ग ने आगे कहा, ‘मैं बेहतर सिस्टम के बारे में विचार कर रहा हूं। ऐसे समय में, जब मेरा मानना है कि रूस और अन्य सरकारें जो भी काम करती हैं, उसे और सूझ-बूझ से करने जा रहे हैं, इसलिए हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि हम सिस्टम को और अधिक मजबूत बनाएं।’ एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि रूस जैसे देशों के चुनाव में हस्तक्षेप को कठिन बनाने के लिए फेसबुक को बहुत काम करने की जरूरत है ताकि ट्रोल और अन्य लोग फर्जी खबरें नहीं फैला सकें।’

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *