डॉ. अंबेडकर पर टिप्पणी कर मुश्किल में हार्दिक पांड्या, एफआईआर के आदेश

21 0

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर पर टिप्पणी करने के बाद विवादों में फंस गए हैं। जोधपुर की एक स्‍पेशल एससी/एसटी कोर्ट ने पुलिस को हार्दिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। पिछले दिनों हार्दिक पांड्या के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर कर एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई थी।

ट्वीट करने के बाद घिरे विवादों में 
हार्दिक पांड्या के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर करने वाले डीआर मेघवाल का कहना है कि पांड्या 26 दिसंबर, 2017 को अपने ट्विटर अकाउंट पर संविधान के निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर के खिलाफ टिप्पणी की थी। मेघवाल ने आरोप लगाया है कि पांड्या ने इस पोस्ट में न सिर्फ डॉ. भीमराव अंबेडकर को अपमानित किया, बल्कि दलित समुदाय के लोगों की भावनाओं को भी ठेस पहुंचाई है।

पांड्या ने ट्वीट में कहा था – ‘कौन अंबेडकर?’
मेघवाल का कहना है कि एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक पांड्या ने ट्वीट कर कहा था, ‘कौन आंबेडकर? वह व्यक्ति जिसने देश के संविधान का ड्राफ्ट तैयार किया या फिर वो जिसने देश को आरक्षण के नाम पर एक बीमारी दी?’ बता दें कि मेघवाल खुद को राष्ट्रीय भीम सेना का सदस्य बताते हैं। याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि पांड्या ने गंभीर अपराध किया है। उन्होंने पूरे दलित समुदाय को दुख पहुंचाया है। इसके लिए पांड्या के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

Related Post

श्वेता बच्चन चल रही हैं अपने दादा जी के नक़्शे क़दमों पर…

Posted by - April 19, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की बेटी श्वेता बच्चन नंदा भले ही अपने अपने माता-पिता के नक़्शे-क़दम पर न चली हों, लेकिन श्वेता  अपने दादाजी को…

अमेरिका बोला – पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई की अलग फॉरेन पॉलिसी, आतंकियों से कनेक्शन

Posted by - October 4, 2017 0
वॉशिंगटन: अमेरिका के एक टॉप जनरल ने कहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के आतंकी गुटों से संबंध हैं…

नोटबंदी के बाद बैंकों में जमा हुए रिकॉर्ड जाली नोट, संदिग्ध लेनदेन में 480% का इजाफा

Posted by - April 22, 2018 0
वित्त मंत्रालय के तहत काम करने वाली फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट की रिपोर्ट में खुलासा 2016-17 में जाली करेंसी के लेनदेन…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *