नवरात्रि के छठे दिन करें मां कात्यायनी की पूजा, बनते हैं विवाह के योग

33 0

चैत्र नवरात्रि के छठे दिन माता कात्यायनी की पूजा की जाती है। माता कात्यायनी को देवी दुर्गा का छठा स्वरूप माना गया है। माता कात्यायनी का जन्म महर्षि कात्यायन के घर हुआ था।

ऐसी कथा आती है कि महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर आदिशक्ति ने खुद उनके यहां पुत्री के रूप में जन्म लिया था। इनकी उपासना और आराधना से भक्तों को बड़ी आसानी से अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति होती है।

हर लेती हैं रोग, शोक, संताप

कात्यायनी देवी की कृपा से भक्तों के रोग, शोक, संताप और भय नष्ट हो जाते हैं। जो भक्त भगवती कात्यायनी की आराधना सच्चे मन से करता है, उसके सभी पाप भगवती कात्यायनी की कृपा से नष्ट हो जाते हैं।

कात्यायनी देवी की पूजा

शास्त्रों के अनुसार कात्यायनी देवी की आराधना का सबसे अच्छा समय गोधूलि बेला होता है। कात्यायनी देवी को पीले पुष्प सबसे अधिक प्रिय हैं, इसलिए भक्तों को कात्यायनी देवी की पूजा में पीले पुष्प अवश्य शामिल करना चाहिए।

कात्यायनी देवी का स्वरूप 

माँ कात्यायनी का स्वरूप अत्यंत चमकीला और भास्वर है। इनकी चार भुजाएँ हैं। देवी की दाहिनी तरफ का ऊपर वाला हाथ अभयमुद्रा में और नीचे वाला वरमुद्रा में है। बाईं तरफ के ऊपरवाले हाथ में तलवार और नीचे वाले हाथ में कमल-पुष्प सुशोभित है। इनका वाहन सिंह है।

ऐसे बनते हैं विवाह के योग 

ऐसी मान्यता है कि अविवाहित कन्याएं अगर देवी कात्यायनी की पूजा करती हैं तो उनके विवाह का योग जल्दी बनता है। जिन कन्याओं के विवाह में विलंब हो रहा हो तो उनके लिए कात्यायनी देवी के मंत्र का जाप करना अत्यंत लाभदायक होता है।

मां कात्यायनी का ध्‍यान मंत्र –

चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन। 

कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी।।

Related Post

राष्ट्रपति कोविंद और उनकी पत्नी से जगन्नाथ मंदिर में हुई ‘बदसलूकी’

Posted by - June 27, 2018 0
नई दिल्‍ली। ओडिशा के प्रसिद्ध श्री जगन्नाथ पुरी मंदिर में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उनकी पत्‍नी सविता कोविंद के साथ…

राहुल ने अटल को बताया इंदिरा-नेहरू जैसा, मोदी को नफरत फैलाने वाला कहा

Posted by - April 18, 2018 0
अमेठी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कई बार बीजेपी के बुजुर्ग नेता लालकृष्ण आडवाणी को सहारा देते नजर आ चुके हैं।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *