नवरात्र के पांचवें दिन करें स्कन्दमाता की पूजा, होंगे सारे संकट दूर

22 0

नवरात्र के पांचवे दिन मां स्कंद की पूजा-आराधना की जाती है इनकी आराधना करने से भक्तों को संतान और धन की प्राप्ति होती है। माता की पूजा से मोक्ष की प्राप्ति होती है. भगवान स्कन्द कुमार कात्तिर्केय नाम से भी जाने जाते हैं। ये प्रसिद्ध देवासुर-संग्राम में देवताओं के सेनापति बने थे। इन्हीं भगवान स्कन्द की माता होने के कारण मां के इस पांचवें स्वरूप को स्कन्दमाता के नाम से जाना जाता है।

इन मंत्रों का करें उचारण

सिंहसनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया।

शुभदास्तु सदा देवी स्कंदमाता यशस्विनी॥

अर्थात् सिंह पर सवार रहने वाली और अपने दो हाथों में कमल का फूल धारण करने वाली यशस्विनी स्कंदमाता हमारे लिये शुभदायी हो।

पूजाविधि : नवरात्र के पांचवें दिन की पूजा में श्वेत रंग के वस्त्रों का प्रयोग कर सकते हैं। यह दिन बुध ग्रह से संबंधित शांति पूजा के लिए सर्वोत्तम है। पूजा में कुमकुम, अक्षत से पूजा करें। चंदन लगाएं। तुलसी माता के सामने दीपक जलाएं।

Related Post

केंद्रीय मंत्री के बिगड़े बोल, कहा – रेप की एक-दो घटनाओं पर बात का बतंगड़ न बनाएं

Posted by - April 22, 2018 0
संतोष गंगवार बोले – ऐसी घटनाएं दुर्भाग्यपूर्ण, मगर इतने बड़े देश में कभी-कभी उन्‍हें रोका नहीं जा सकता बरेली। कठुआ…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *