इच्छामृत्यु संबंधी पहली वसीयत रजिस्टर, SC ने दी थी बीते दिनों मंजूरी

169 0

नई दिल्ली। सम्माननीय मौत संबंधी सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद इच्छामृत्यु संबंधी पहली वसीयत देश में रजिस्टर हुई है। ये वसीयत कानपुर के एक वकील ने कराई है।

सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा था ?
सुप्रीम कोर्ट ने बीते दिनों कहा था कि किसी को भी सम्माननीय जिंदगी जीने के अधिकार के साथ ही सम्माननीय मौत का भी हक है। अदालत ने कहा था कि लोग स्वस्थ रहते लिविंग विल कर सकते हैं, जिसमें वो ये हक किसी को दे सकते हैं कि गंभीर रूप से बीमार होने पर उपकरणों के सहारे जिंदा रखने के बजाय इच्छामृत्यु दे दी जाए।

पहली वसीयत किसने कराई ?
इच्छामृत्यु संबंधी पहली वसीयत कानपुर के वकील एसके त्रिपाठी ने रजिस्टर्ड कराई है। उन्होंने अपने एक जूनियर को हक दिया है कि भविष्य में अप्रिय स्थिति आई तो वो उनके जीवन को खत्म करने संबंधी अहम फैसला ले सकता है। एसके त्रिपाठी के घर में बुजुर्ग माता-पिता, पत्नी और दो बच्चे हैं।

वसीयत में क्या लिखा जा सकता है ?
लिविंग विल में कोई भी शख्स लिख सकता है कि बीमारी ठीक न होने की स्थिति में उसे उपकरणों के सहारे जिंदा न रखा जाए, बल्कि इच्छामृत्यु दी जाए। इसके लिए बनने वाली वसीयत में दो गवाह भी होंगे। वसीयत को न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी से प्रमाणित कराकर रजिस्टर कराया जाएगा।

किनके पास रहेगी वसीयत की कॉपी ?
इच्छामृत्यु संबंधी वसीयत की कॉपी परिवार, न्यायिक मजिस्ट्रेट, जिला जज और नगर निगम के पास रहेगी। इच्छामृत्यु के लिए परिवार की मंजूरी जरूरी होगी। इसके लिए हाईकोर्ट में अर्जी देनी होगी। मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट पर हाईकोर्ट ही इच्छामृत्यु की मंजूरी देगा। इच्छामृत्यु की वसीयत लिखने वाले के बारे में छानबीन होगी कि कहीं उसकी मौत से किसी को फायदा तो नहीं होने वाला।

Related Post

लेनिन, पेरियार और मुखर्जी के बाद अब केरल में गांधीजी की प्रतिमा क्षतिग्रस्त की

Posted by - March 8, 2018 0
चेन्नै के पेरियार नगर में शरारती तत्‍वों ने बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की मूर्ति को नुकसान पहुंचाया तिरुवनंतपुरम/नई दिल्ली। त्रिपुरा में…

अगले महीने फिर यूपी में परखी जाएगी विधायकों की निष्ठा, विधान परिषद के हैं चुनाव

Posted by - March 26, 2018 0
लखनऊ। अंतरात्मा की आवाज सुनकर राज्यसभा चुनाव के दौरान बीजेपी उम्मीदवार को वोट देकर यूपी में तमाम विधायक चर्चा में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *