बिना ड्राइवर चलने वाली गाड़ियों पर उठे सवाल, अमेरिका में एक की गई जान

30 0

फीनिक्स। गूगल समेत कई कंपनियां काफी समय से बिना ड्राइवर की अपने आप चलने वाली गाड़ियों का परीक्षण कर रही हैं, लेकिन इन गाड़ियों से सुरक्षा के खतरे सामने आ रहे हैं। ताजा मामला अमेरिका के फीनिक्स का है। जहां ऊबर कंपनी की एक ऐसी ही गाड़ी ने महिला की जान ले ली।

कब हुआ हादसा ?
ये हादसा रविवार रात फीनिक्स के टेम्पे में हुआ। यहां ऊबर की एक एसयूवी की टेस्टिंग हो रही थी। गाड़ी में ड्राइवर था, लेकिन गाड़ी को ऑटोमैटिक मोड पर चलाया जा रहा था। इसी बीच गाड़ी में लगे सेंसर्स ने नियंत्रण खो दिया और सड़क पर पैदल चल रही महिला उससे कुचलकर मारी गई।

टेस्टिंग पर लगी रोक
ऊबर ने हादसे के तुरंत बाद फीनिक्स, पिट्सबर्ग, सैन फ्रांसिस्को और कनाडा के टोरंटो में इस तरह की ऑटोमैटिक गाड़ियों की टेस्टिंग पूरी तरह रोक दी है।

पहले भी हो चुके हैं हादसे
ऑटोमैटिक गाड़ियों से ये पहला हादसा नहीं है। मार्च, 2017 में ऊबर की ही ऐसी ही एसयूवी टेम्पे में ही पलट गई थी। वहीं, अमेरिका के फ्लोरिडा में साल 2016 में ऑटोपायलट पर चल रही टेस्ला की कार का ड्राइवर सड़क हादसे में मारा गया था।

बिना ड्राइवर कैसे चलती है गाड़ी ?
बिना ड्राइवर वाली गाड़ियों में लेजर, रडार, कैमरा और अन्य सेंसर्स के साथ कम्प्यूटर होते हैं। सेंसर्स, कैमरों और रडार से सड़क पर चल रहे अन्य वाहनों की जानकारी इकट्ठा होकर कम्प्यूटर में जाती है। इसके बाद कम्प्यूटर ही गाड़ी को चलाता, उसकी स्पीड कंट्रोल करता और रोकता है।

Related Post

इस बीमारी से ग्रस्त हो रही हैं ज्यादातर महिलाएं, बच्चे पैदा करने में होती है दिक्कत

Posted by - August 31, 2018 0
नई दिल्ली। महिलाओं और युवतियों में एक खतरनाक बीमारी घर कर रही है। इस बीमारी की वजह से बच्चे पैदा…

अब तेल कंपनियां भी बायोएथेनॉल संयंत्रों में करेंगी पराली का इस्तेमाल

Posted by - November 20, 2017 0
  30,000 करोड़ का निवेश होने की संभावना, धान, गेहूं की पराली और बांस के डंठलों का होगा प्रयोग सरकार ने दिल्ली में वायु…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *