जानिए रानी मुखर्जी को क्यों आ रही है ‘हिचकी’…

28 0

रानी मुखर्जी इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म हिचकी के प्रमोशन में काफी बिजी हैं। इस फिल्म के प्रमोशन के लिए रानी नई से नई तरकीबों का इस्तेमाल कर रही हैं। लम्बे समय के बाद बड़े पर्दे पर वापसी को लेकर रानी जहां एक तरह उत्साहित हैं, वही दूसरी तरफ नर्वस भी।

हाल ही में रानी ने कहा, ‘मैं अपने 40 साल की उम्र में 20 साल की उम्र जितना काम करना चाहती हूं। साथ ही अधिक से अधिक फिल्में करना चाहती हूं। मैं आदिरा को बढ़ते देखकर आनंद लेना चाहती हूं। आगे आने वाले साल उसके जीवन के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होने वाले हैं, इसलिए मुझे लगता है कि यह वाकई बहुत ही अच्छा दशक होगा।’

इस फिल्म को सिद्धार्थ पी. मल्होत्रा ने निर्देशित किया है। यह फिल्‍म नैना माथुर के बारे में है, जो टॉरेट सिंड्रोम से पीड़ित है। यह बीमारी नर्वस सिस्टम को प्रभावित करती है। फिल्‍म में इसके माध्‍यम से बताया गया है कि कैसे हर किसी की जिंदगी में एक हिचकी होती है।

रानी ने कहा, ‘इस फिल्म की कहानी मेरे लिए बेहद ख़ास है क्योंकि इस फिल्म कहानी थोड़ा बहुत मेरे जीवन से भी जुड़ी हैं। मैं उसको अधिक प्राथमिकता देती हूं। मेरे लिए ये बहुत जरूरी है कि जो दर्शक हैं, वो कहानी के साथ जुड़ें, तभी वो मेरे कैरेक्टर से जुड़ पाएंगे।’

रानी ने कहा, ‘कृपया आप दुआ करें कि हिचकी एक हिट फिल्म साबित हो क्योंकि केवल इस फिल्म को मिले प्रोत्साहन और सशक्तिकरण के बाद ही मुझे शायद अधिक फिल्में मिलेंगी।’ अभिनेत्री ने आगे  कहा, जिसने शादी और मातृत्व के लिए ब्रेक लेने के बाद कैमरे का सामना किया, मैं उन्हें ‘महान’ कहती हूं।

Related Post

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड : समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने दिया इस्तीफा

Posted by - August 8, 2018 0
विवादों में घिरीं मंजू वर्मा को आखिरकार छोड़ना पड़ा पद, पति चंद्रेश्वर वर्मा को लेकर उठ रहे सवाल पटना। मुजफ्फरपुर बालिका…
बुजुर्ग

बुजुर्ग मां-बाप को घर से निकाला तो जाना होगा 6 महीने जेल, सरकार कानून बदलेगी

Posted by - May 12, 2018 0
नई दिल्ली। मोदी सरकार जल्दी ही बुजुर्गों के हित में कानून में संशोधन करेगी। इसके तहत बुजुर्ग माता-पिता से दुर्व्यवहार…

45 टॉपर्स को गोल्ड मेडल और 123 शोधार्थियों को मिली डॉक्टरेट की उपाधि

Posted by - December 19, 2017 0
गोरखपुर विश्‍वविद्यालय का 36वां दीक्षांत : गोल्ड मेडल गले में पड़ते ही खुशी से दमके चेहरे गोरखपुर। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *