11वें दिन भी नहीं चली लोकसभा, नहीं पेश हो सका अविश्वास प्रस्ताव

22 0
  • लोकसभा स्‍पीकर ने हंगामे के चलते अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस स्वीकारने से किया इनकार
  • राज्‍यसभा में भी विपक्ष के जोरदार हंगामे के चलते कार्यवाही मंगलवार तक के लिए स्‍थगित

नई दिल्ली। टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस द्वारा केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ दिए गए अविश्वास प्रस्ताव को सोमवार (19 मार्च) को लोकसभा सभापति ने स्वीकार नहीं किया। दोनों पार्टियों ने अविश्वास प्रस्ताव को लेकर तीन नोटिस दिए थे, लेकिन उस समय टीडीपी और एआईएडीएमके के सांसदों के हंगामे के कारण स्पीकर ने पहले 12 बजे तक के लिए लोकसभा को स्थगित किया उसके बाद पूरे दिन के लिए संसद की कार्यवाही स्थगित हो गई। हालांकि सरकार का कहना है कि वह इस पर चर्चा के लिए तैयार है। संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने कहा है, ‘हम अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने के लिए तैयार हैं, क्योंकि हमारे पास पूर्ण बहुमत है।’ वहीं राज्‍यसभा में भी विपक्ष के हंगामे के चलते कार्यवाही को मंगलवार तक के लिए स्‍थगित कर दिया गया।

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य के दर्जे के मुद्दे पर हंगामा

सुबह 11 बजे लोकसभा की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जे की मांग करते हुए टीडीपी, वाईएसआर कांग्रेस और टीआरएस के सदस्य नारेबाजी करते हुए अध्यक्ष के आसन के निकट पहुंच गए। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इन सदस्यों को अपने स्थान पर वापस लौटने के लिए कहा, लेकिन हंगामा नहीं थमा। इसके बाद उन्होंने सदन की कार्यवाही एक घंटे के लिए स्थगित कर दी। टीडीपी, वाईएसआर कांग्रेस और टीआरएस के सदस्य ‘वी वांट जस्टिस’ के नारे लगा रहे थे। पीएनबी धोखाधड़ी मामले को लेकर तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने भी नारेबाजी की। दोपहर 12 बजे सदन की बैठक पुन: शुरू होने पर भी जब हंगामा नहीं थमा तो लोकसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्‍थगित कर दी गई।

सरकार अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के लिए तैयार
इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार सदस्यों द्वारा उठाए जा रहे सभी मुद्दों पर और अपने खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर भी चर्चा के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत से ही हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही लगातार बाधित है। सभी सहयोग दें और अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा शुरू कराएं। लेकिन इसके बाद भी हंगामा बदस्तूर जारी रहा।

सुमित्रा महाजन ने कहा, सदन में नहीं है व्यवस्था
लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि वह टी. नरसिंहन और वाईवी सुब्बारेड्डी द्वारा सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के नोटिस के संदर्भ में कर्तव्य से बंधी हैं, लेकिन सदन में व्यवस्था नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि सदस्य अपने स्थान पर जाएं और सदन में व्यवस्था बने तो ही वह अविश्‍वास प्रस्‍ताव को आगे बढ़ा सकती हैं। इस पर कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के सदस्यों और तेदेपा के सदस्यों ने अपने स्थानों पर ही खड़े होकर जोरदार हंगामा किया। हंगामा जारी रहने के बीच स्पीकर ने बैठक को पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया।

Related Post

कानपुर में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या हुई 14, पूर्व मंत्री का नाती गिरफ्तार

Posted by - May 21, 2018 0
कानपुर। कानपुर देहात के मंडौली गांव में सरकारी ठेके से खरीदी गई देसी शराब पीकर रविवार को 6 और लोगों…

केरल लव जिहाद केस : सुप्रीम कोर्ट के दखल पर हदिया हुई आजाद

Posted by - November 27, 2017 0
सुप्रीम कोर्ट में बोली हदिया – मुझे मेरी आजादी चाहिए, डॉक्टरी पढ़ने जाएगी कॉलेज, सुरक्षा देने का आदेश नई दिल्‍ली। केरल…

केरल में फिर RSS कार्यकर्ता पर हमला, BJP ने सत्तारूढ़ लेफ्ट पर लगाया आरोप

Posted by - October 16, 2017 0
केरल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. कन्नूर में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *