Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

सुब्रमण्यम स्वामी बोले – राममंदिर निर्माण के लिए सरकार लाए अध्यादेश

97 0
  • भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उठाई मांग

नई दिल्ली। वरिष्‍ठ भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी राममंदिर मामले पर एक बार फिर आगे आए हैं। उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर राममंदिर निर्माण के लिए अध्‍यादेश लाने की मांग की है। स्‍वामी ने पत्र में लिखा है – ‘सरकार राम जन्मभूमि के मालिकाना हक पर एक अध्यादेश ला सकती है और इस भूमि को किसी धार्मिक संस्‍था को सौंप सकती है। खासतौर पर ऐसे लोगों को जो आगम शास्त्र में निपुण हैं और जिनके निर्देशों पर मंदिर का निर्माण हो सके।’

दावेदारों को दिया जा सकता है मुआवजा

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, स्वामी ने पत्र में आगे लिखा है, ‘मौजूदा दावेदारों को जमीन की जगह उनके दावे के नुकसान के लिए मुआवजा दिया जा सकता है।’ उन्होंने आगे लिखा, ‘कांग्रेस-प्रभावित वकीलों का एजेंडा है कि इस केस को लंबा खींचा जाए, इसलिए मैं ऐसा मानता हूं कि हमें संविधान बनाना चाहिए और कानून हमारा हथियार है। इसलिए सरकार अध्यादेश लेकर आए।’ बता दें कि इस मामले की पिछले साल दिसंबर के पहले हफ्ते में हुई सुनवाई के दौरान सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्‍बल ने कोर्ट से इस केस की सुनवाई लोकसभा चुनाव तक टालने की मांग की थी।

सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 23 मार्च को

गौरतलब है कि इस मामले पर 14 मार्च को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई थी। कोर्ट ने तब सभी दखल याचिकाओं को खारिज कर दिया था और कहा कि सिर्फ मुख्य पक्षकारों की याचिकाओं पर ही सुनवाई की जाएगी। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने अगली सुनवाई की तारीख 23 मार्च नियत की थी। बता दें कि इस मामले में तीन मुख्‍य पक्षकार हैं – सुन्‍नी सेंट्रल वक्‍फ बोर्ड, रामलला विराजमान और निर्मोही अखाड़ा।

Related Post

दिल्ली: स्कूल में धर्म के आधार पर बांटे गए छात्र, हिंदू-मुस्लिम छात्रों को अलग-अलग बिठाया

Posted by - October 11, 2018 0
नई दिल्ली।शिक्षा के मंदिर में धार्मिक आधार पर भेदभाव करने की इजाजत न तो हमारा समाज देता है और न…

जैन के आने के बाद मीरा इस तरह रख रही हैं दोनों बच्चों का ख्याल, शेयर किया पैरेंटिंग एक्सपीरिएंस

Posted by - September 12, 2018 0
मुंबई। शाहिद कपूर और मीरा राजपूत इन दिनों अपने बेटे जैन के आने की खुशियां मना रहे हैं। शाहिद ने…

…जब प्रेसिडेंट ट्रंप ने किम जोंग को दिखाई अपनी लिमोजिन कार

Posted by - June 14, 2018 0
अमेरिकी राष्ट्रपति के पास है दुनिया की सबसे सुरक्षित कार, न्यूक्लियर अटैक से भी बचा सकती है जान सिंगापुर। अमेरिका…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *