Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

होठों पर लिपस्टिक नहीं, जहर लगाती हैं आप…

469 0

लड़कियां हों या महिलाएं, बिना लिपस्टिक लगाए इनका मेकअप अधूरा रहता है। उनके पर्स में आपको और कुछ मिले या न मिले लेकिन किसी न किसी शेड की लिपस्टिक जरूर मिलेगी। दूसरे शब्दों में कहें तो लिपस्टिक उनके लिए एक जरूरी चीज है। लेकिन क्या कभी आपने ये सोचा है जो लिपस्टिक हमारी सुंदरता को बढ़ाने का काम करती है, उनका इस्तेमाल कितना हानिकारक हो सकता है? लिपस्टिक में इस्तेमाल होने वाले सीसा, कैडियम, क्रोमियम, एल्यूमिनियम और पांच अन्य घातक धातुओं की वजह से कैंसर और ट्यूमर जैसी भयानक बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।

केवल लिपस्टिक ही नहीं, और भी ऐसे बहुत से प्रोडक्ट होते हैं जिनका इस्तेमाल हम रोजाना करते हैं – जैसे परफ्यूम, कोलोन और एयर फ्रेशनर। इन प्रॉडक्ट्स में फैलेट और फ्रेगरेंस केमिकल्स मिलाए जाते हैं। इनसे एक तरफ जहां पुरुषों की प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है, वहीं दूसरी तरफ अस्थमा के लक्षणों में भी बढ़ोतरी देखने को मिलती है।

नेल पॉलिश

आज लड़कियों में अलग-अलग कलर की नेल पॉलिश को लेकर बहुत क्रेज है। वे जिस रंग की ड्रेस पहनती हैं, उसी रंग की नेल पॉलिश लगाना पसंद करती हैं। लेकिन इन नेल पेंट में फार्मेल्डिहाइड और अन्‍य ऐसे केमिकल्स पाए जाते हैं जो अग्निरोधी होते हैं। यही नहीं, इन केमिकल्‍स की वजह से शरीर के नर्वस सिस्टम और हॉर्मोन लेवल में बदलाव हो सकता है। साथ ही कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है। अत: इनका इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए।

हेयर कॉस्मेटिक्स

हम अपने बालों को खूबसूरत बनाए रखने के लिए हेयर कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल करते हैं। आज बाजार में तरह-तरह शैंपू, हेयर जेल और लोशन उपलब्‍ध हैं, जिनका लोग धड़ल्‍ले से इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन इन हेयर कॉस्मेटिक्स में पाराबेन नामक केमिकल पाया जाता है जिसकी वजह से शरीर में ऐस्ट्रोजन हॉर्मोन्स जैसे कई और हॉर्मोन्स बन सकते हैं।

परफ्यूम

दिन भर की पसीने की बदबू को दूर रखने के लिए हम रोजाना महंगे से महंगे परफ्यूम का इस्तेमाल करते हैं जिससे फ्रेशनेस बरक़रार रहे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन प्रॉडक्ट्स में फैलेट और फ्रेगरेंस केमिकल्स मिलाए जाते हैं। इनकी वजह से पुरुषों की प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है।

साबुन

शरीर को साफ़-सुथरा रखने के लिए हम तरह-तरह के ब्यूटी सोप्स का प्रयोग करना पड़ता है। आपको बता दें कि इन प्रोडक्ट्स में ऐंटीमाइक्रोबियल केमिकल पाए जाते हैं जो शरीर में मौजूद थायरॉइड और दूसरे हॉर्मोन्स को प्रभावित करते हैं।

Related Post

CBSE JEE Mains 2018 का रिजल्ट घोषित, आंध्र प्रदेश के भोगी सूरज कृष्णा टॉपर

Posted by - April 30, 2018 0
11.33 लाख परीक्षार्थियों में से 2.31 लाख परीक्षार्थी सफल, जेईई एडवांस में शामिल होंगे 2.24 लाख छात्र नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड…

जाकिर नाइक को लेकर मलेशिया की सरकार में बवाल, पीएम के खिलाफ हुए मंत्री

Posted by - July 13, 2018 0
कुआलालंपुर। इस्लामी विद्वान होने का दावा कर मुसलमानों का ब्रेनवॉश कर उन्हें आतंक की राह पर भेजने के आरोपी जाकिर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *