दुनिया में सबसे ज्यादा हथियार खरीदने वाला देश बना भारत

57 0
  • ग्लोबल थिंक टैंक स्टाकहॉम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट में हुआ खुलासा
  • 2013-2017 के बीच दुनियाभर में आयात किए गए हथियारों में भारत की हिस्‍सेदारी 12 फीसदी

नई दिल्‍ली। दुनिया में सबसे ज्यादा हथियार खरीदने वाले देशों में भारत पहले नंबर पर पहुंच गया है। स्टॉकहोम के थिंक टैंक ‘इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट’ की सोमवार (12 मार्च) को जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ने 2013-2017 के दौरान दुनिया में सबसे ज्यादा हथियार खरीदे हैं। इस मामले में दुनिया में उसकी हिस्सेदारी 12% हो गई है। 2008 से 2013 की तुलना में भारत ने 2013 से 2017 के बीच 24% ज्यादा हथियार खरीदे। बता दें कि भारत अब भी अपनी रक्षा जरूरतों को पूरी करने के लिए 65 प्रतिशत सामान बाहर से खरीदता है।

हथियार खरीदने में सऊदी अरब दूसरे नंबर पर

इस रिपोर्ट में भारत के बाद सबसे ज्यादा हथियार खरीदने वाले देशों में सऊदी अरब का स्‍थान दूसरा है। उसके बाद हथियार आयात करने वालों में मिस्र, यूएई, चीन, ऑस्ट्रेलिया, अल्जीरिया, इराक, पाकिस्तान और इंडोनेशिया आदि देश आते हैं।

भारत ने रूस से खरीदे सबसे ज्यादा हथियार

भारत ने 2013 से 2017 के बीच सबसे ज्यादा हथियार रूस से खरीदे। दुनियाभर से खरीदे गए कुल हथियारों में रूस की हिस्सेदारी 62% है। इसके बाद अमेरिका का नंबर है जहां से भारत ने 15% और इजरायल से 11% हथियार खरीदे हैं। भारत ने अमेरिका से 2013-17 के बीच 15 बिलियन डॉलर (97,000 करोड़ से ज्यादा) के हथियार खरीदे हैं, जो साल 2008-12 के मुकाबले 557 प्रतिशत ज्यादा है।

हथियार बेचने के मामले में अमेरिका अव्‍वल

दुनियाभर में हथियार बेचने वाले देशों में अमेरिका पहले नंबर पर है। इसके बाद रूस, फ्रांस और जर्मनी आते हैं। हथियार बेचने में चीन का नंबर पांचवां है। वैसे चीन सबसे ज्यादा हथियार पाकिस्तान को बेचता है। ये पांचों देश मिलकर दुनियाभर में 74 फीसदी हथियार सप्‍लाई करते हैं। पाकिस्‍तान अपने 35 फीसदी हथियार चीन से लेता है, जबकि बांग्‍लादेश 19 फीसदी हथियार मंगाता है।

Related Post

अब 3डी सेंसर तकनीक बताएगी हकीकत, पता लग जाएगा हमारे शहर हैं कितने साफ

Posted by - November 1, 2018 0
नई दिल्‍ली। वैज्ञानिकों ने शहरों में सड़कों के किनारे अनधिकृत रूप से फेंके जाने वाले कचरे की मात्रा का पता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *