Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

सुप्रीम कोर्ट ने आधार को आवश्‍यक सेवाओं से लिंक करने की डेडलाइन बढ़ाई

66 0
  • आधार योजना की वैधता पर संविधान पीठ का फैसला आने तक आधार लिंक कराना जरूरी नहीं
  • सर्वोच्‍च अदालत ने कहा – आधार को अनिवार्य करने के लिए दबाव नहीं डाल सकती है सरकार

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार (13 मार्च) को आधार लिंक करने की डेडलाइन को बढ़ा दिया है। सर्वोच्‍च अदालत ने कहा जब तक आधार योजना  वैधता पर संविधान पीठ का फैसला नहीं आता, तबतक आधार लिंक करना जरूरी नहीं है। हालांकि इसके लिए सुप्रीम कोर्ट की तरफ से अभी कोई तारीख निर्धारित नहीं की गई है। बता दें कि मोबाइल, बैंकिंग, इनकम टैक्स, पैन कार्ड आदि से आधार को लिंक करने की आखिरी तारीख 31 मार्च, 2018 थी। सुप्रीम कोर्ट ने पिछले महीने 23 फरवरी को ही आधार लिंकिंग की तारीख को बढ़ाकर 31 मार्च कर दिया था।

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली 5 जजों की बेंच ने मंगलवार को कहा कि सरकार आधार को जबरदस्ती अनिवार्य नहीं कर सकती है। फिलहाल सिर्फ सब्सिडी, बैनिफिट्स और सर्विसेज यानी सामाजिक कल्याणकारी योजनाओं के ही लिए आधार जरूरी रहेगा। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की बेंच आधार की वैधता के मामले में सुनवाई कर रही है। पिछली सुनवाई में कोर्ट ने कहा था कि आधार से जुड़ी याचिकाओं पर 31 मार्च तक फैसला देना संभव नहीं है। इस मामले की सुनवाई करने वाली बेंच में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस अशोक भूषण शामिल हैं।

गौरतलब है कि तत्काल में पासपोर्ट के लिए आधार की अनिवार्यता को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। वकील वृंदा ग्रोवर ने याचिका दाखिल की है। याचिका में कहा गया है कि जनवरी, 2018 में जारी पासपोर्ट नियमों के तहत तत्काल योजना में नया पासपोर्ट बनवाने या नवीनीकरण के लिए आधार को अनिवार्य बना दिया गया है। उन्होंने तत्काल में पासपोर्ट रिन्यू का आवेदन दिया तो उनका पुराना पासपोर्ट रद्द कर दिया गया। अब नए पासपोर्ट के लिए आधार नंबर देने को कहा जा रहा है, जबकि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक आधार सिर्फ कल्याणकारी योजनाओं के लिए ही अनिवार्य है। उन्हें तीन दिन के भीतर पासपोर्ट चाहिए क्योंकि उन्हें एक सेमिनार में हिस्सा लेने ढाका जाना है।

बता दें कि सरकार ने सरकारी योजनाओं के तहत फायदा लेने के लिए आधार कार्ड को बैंक खाते से लिंक कराना अनिवार्य कर दिया है। पेंशन, एलपीजी सिलेंडर, सरकारी स्कॉलरशिप के लिए आधार कार्ड की जानकारी देना जरूरी है। यही नहीं, सरकार ने अब ड्राइविंग लाइसेंस के लिए भी आधार कार्ड जरूरी कर दिया है। इसके बाद इन सभी के लिए आधार को लिंक करने की आखिरी तारीख को बढ़ाकर 31 मार्च, 2018 कर दिया गया था।

Related Post

हंगामे के कारण संसद में नहीं हो सका सचिन का ‘डेब्यू’ भाषण

Posted by - December 21, 2017 0
विपक्ष के जोरदार हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित हुई नई दिल्‍ली। पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी…

महात्मा गांधी हत्या केस : सुप्रीम कोर्ट ने पड़पोते से पूछा आप कौन?

Posted by - October 31, 2017 0
 तुषार गांधी ने ट्विटर पर ही सुप्रीम कोर्ट को दे दिया जवाब नई दिल्लीः महात्मा गांधी की हत्या की दोबारा जांच की…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *