अपराधी माननीय ! 1765 सांसद-विधायकों पर 3045 क्रिमिनल केस

47 0

नई दिल्ली। अपराधियों को राजनीति से दूर रखने की कवायद भले हो रही हो, लेकिन फिलहाल ये दूर की कौड़ी लग रही है। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि देश के 1765 सांसदों और विधायकों पर 3045 आपराधिक मुकदमे हैं। बता दें कि देश में सांसदों और विधायकों की कुल संख्या 4896 है। इस तरह इनमें से करीब 36 फीसदी आपराधिक मामलों में फंसे हैं।

इन राज्यों में इतने दागी माननीय

  • यूपी में 248 पूर्व और मौजूदा सांसद के अलावा 539 पूर्व और मौजूदा विधायक
  • तमिलनाडु में 178 पूर्व और मौजूदा सांसद के अलावा 324 पूर्व और मौजूदा विधायक
  • बिहार में 144 पूर्व और मौजूदा सांसद के अलावा 306 मौजूदा और पूर्व विधायक
  • पश्चिम बंगाल में 139 पूर्व और मौजूदा सांसद के अलावा 303 पूर्व और मौजूदा विधायक
  • आंध्र प्रदेश में 132 पूर्व और मौजूदा सांसद के अलावा 140 पूर्व और मौजूदा विधायक
  • केरल में 114 पूर्व और मौजूदा सांसद के अलावा 373 पूर्व और मौजूदा विधायक
  • दिल्ली में 84 पूर्व और मौजूदा सांसदों के अलावा 118 पूर्व और मौजूदा विधायक
  • कर्नाटक में 82 पूर्व और मौजूदा सांसदों के अलावा 137 पूर्व और मौजूदा विधायक

सुप्रीम कोर्ट ने दिया था निर्देश
दरअसल, बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि केंद्र सरकार उसे रिपोर्ट दे कि कितने माननीयों पर गंभीर आपराधिक मामले हैं। अदालत का कहना था कि आंकड़े आने के बाद विशेष अदालतें बनाई जाएंगी, जिनमें माननीयों के खिलाफ मुकदमों को एक साल में निपटाया जाएगा।

कितनी अदालतें बनाई जाएंगी ?
सांसदों और विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामलों को निपटाने के लिए दिल्ली में 2 और आंध्र प्रदेश, बिहार, केरल, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल में 10-10 फास्ट ट्रैक कोर्ट जाएंगे।

Related Post

जेट-लाई वाले ट्वीट पर राहुल के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव

Posted by - December 29, 2017 0
राज्यसभा के सभापति वेकैंया नायडू कर सकते हैं इस प्रस्‍ताव पर विचार नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा पूर्व…

मोदी सरकार में थमा ग्रामीण इलाकों का विकास, टारगेट से दूर हैं 4 योजनाएं

Posted by - April 14, 2018 0
नई दिल्ली। मोदी सरकार में ग्रामीण इलाकों का विकास थम गया है। पीएम नरेंद्र मोदी के 4 ड्रीम प्रोजेक्ट के…

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, क्‍यों ना SC/ST संशोधन कानून के अमल पर लगा दें रोक?

Posted by - September 7, 2018 0
सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने SC/ST एक्ट में संशोधन पर केंद्र सरकार को दिया नोटिस, 6 हफ्ते में मांगा जवाब नई दिल्‍ली।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *