त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री होंगे बिप्लब देब, 9 को लेंगे शपथ

142 0
  • भाजपा के ही जिष्णु देव बर्मन उप मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे

अगरतला त्रिपुरा के अगले मुख्यमंत्री बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बिप्लब कुमार देब होंगे। देब की अगुआई में बीजेपी ने राज्य में पहली बार 35 सीटें जीती हैं। 2013 के चुनाव में पार्टी के पास एक भी सीट नहीं थी। अगरतला में बीजेपी और उसकी सहयोगी पार्टी के विधायकों की बैठक में देब के नाम पर मुहर लगाई गई। इसमें बीजेपी की ओर से केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर नितिन गडकरी मौजूद थे। उन्होंने ही मीडिया को यह जानकारी दी। उधर, बीजेपी के ही लीडर जिष्णु देव बर्मन को डिप्टी सीएम बनाया गया है। शपथ ग्रहण समारोह 9 मार्च को सुबह 10:30 बजे होगा।

48 साल के बिप्लब कुमार देब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष हैं। उनका जन्म उदयपुर में हुआ। वे पश्चिम त्रिपुरा की बनमालीपुर सीट से विधायक हैं। उन्‍होंने त्रिपुरा यूनिवर्सिटी से 1999 में ग्रेजुएट किया। बिप्‍लब समाजसेवा के काम करते रहे हैं। उनकी छवि साफ-सुथरी है और उनके ऊपर कोई क्रिमिनल केस नहीं है। हलफनामे में उन्‍होंने अपनी कुल प्रॉपर्टी 5.85 करोड़ बताई। बिप्‍लब संघ से जुड़े रहे हैं और संगठन में काम किया है। वह बीजेपी के थिंक टैंक रहे केएन गोविंदाचार्य के साथ काम कर चुके हैं।

अपनी बात जनता तक पहुंचाने में कामयाब रहे

बिप्लब ने त्रिपुरा में जमीनी स्तर पर काम किया। चुनाव से पहले उन्होंने कहा था कि राज्य में लेफ्ट की सरकार 25 सालों से जनता को बेवकूफ बना रही है। यहां भरपूर नेचुरल रिसोर्स होने के बावजूद यह देश का सबसे गरीब राज्य है। उन्होंने वादा किया था कि बीजेपी अगर सत्ता में आई तो इसे मॉडल स्टेट बनाया जाएगा। बिप्लब अपनी यह बात जनता तक पहुंचाने में कामयाब रहे। उनकी अगुआई में कई लेफ्ट समर्थक बीजेपी में आए। फरवरी के पहले हफ्ते में उन्होंने 1600 से ज्यादा लेफ्ट सपोर्टर्स के बीजेपी में आने का दावा किया था।   (एजेंसी)

Related Post

मच्छरों से फैलने वाले वायरस इन महत्वपूर्ण अंगों पर भी करते हैं हमला

Posted by - October 9, 2018 0
मिसौरी। यहां के वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में हुई ताजा रिसर्च में पता चला है कि मच्छरों से फैलने…

बिना कॉलेज की डिग्री Google, Apple समेत इन 15 कंपनियों में करें काम

Posted by - August 22, 2018 0
नई दिल्‍ली। आज अर्थव्यवस्था नौकरी तलाशने वालों के लिए एक दोस्ताना माहौल बनाने में सफल हुई है। अर्थशास्त्रियों का कहना…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *