असम टूरिज्म के कैलेंडर में प्रियंका के कपड़ों पर विवाद, भड़के कांग्रेसी नेता

35 0
  • प्रियंका चोपड़ा को असम राज्‍य की टूरिज्‍म अम्‍बेसडर के पद से हटाने की मांग

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री मोदी के साथ शॉर्ट ड्रेस में नजर आने पर विवादों में आ चुकीं प्रियंका चोपड़ा एक बार फिर अपने कपड़ों के चलते विवाद में घिर गई हैं। हाल ही में असम टूरिज्‍म डेवेलपमेंट कॉर्पोरेशन का नया कैलेंडर रिलीज किया गया, जिसमें प्रियंका भी नजर आ रही हैं। इस कैलेंडर में छपे प्रियंका के फोटो पर कांग्रेस के एक नेता ने विरोध जताया है। कई नेताओं ने प्रियंका के ड्रेस पर असम की सभ्‍यता को गलत तरीके से पेश करने की बात कही है। दरअसल प्रियंका इस कैलेंडर में एक फ्रॉक पहने नजर आ रही हैं। प्रियंका चोपड़ा असम राज्‍य की टूरिज्‍म अम्‍बेसडर हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, विधानसभा सत्र के दौरान कांग्रेस पार्टी की मेंबर रूपज्योती कुर्मी (एमएलए, मरिअनी), रोजलीन टिर्की (एमएलए, सारुपथर) और नंदिता दास (एमएलए, बोको) ने प्रियंका चोपड़ा पर आरोप लगाया कि उनके इस ड्रेस और पहनावे के जरिए असम की सभ्यता को गलत तरह से पेश किया गया है, इसलिए उन्‍हें असम के ब्रांड अम्‍बेसडर के पद से हटा देना चाहिए। एक टीवी न्‍यूज चैनल से बातचीत में कांग्रेस नेता ने कहा, ‘फ्रॉक किसी भी तरह से असम की वेशभूषा नहीं है और कैलेंडर पर छपे ये फोटो बिलकुल भी सभ्य नहीं हैं। फ्रॉक की बजाय प्रियंका को यहां की पारंपरिक मेखेला चादर का इस्तमाल करना चाहिए था। असम में कई प्रतिभावान एक्टर्स हैं। सरकार को कैलेंडर के लिए उन्हें लेना चाहिए था।’

उधर, असम टूरिज्म डेवेलपमेंट कॉर्पोरेशन के चेयरमैन जयंत मल्लाह बरुआ ने प्रियंका का बचाव किया है और कहा है कि उनके ड्रेस में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। उनका कहना है कि इस कैलेंडर को इसलिए बनाया गया है ताकि असम को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रमोट किया जा सके। प्रियंका की अंतरराष्ट्रीय पहचान है, इसलिए इस कैलेंडर को कई इंटरनेशनल टूर ऑपरेटर्स के पास भी भेजा गया है।  (एजेंसी)

Related Post

प्रद्युम्न मर्डर : घर पहुंचा अशोक, बोला- जबरन कबूल कराया गया जुर्म

Posted by - November 23, 2017 0
गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए प्रद्युम्न मर्डर केस में गिरफ्तार आरोपी बस कंडक्टर अशोक कुमार 76 दिनों तक…

पुणे के इस गांव ने मच्छरों का नामो निशां नहीं, लोगों ने नामुमकिन को कर दिखाया मुमकिन

Posted by - October 11, 2018 0
पुणे। भारत में वैसे तो कई स्तर पर मच्छरों से निपटने के लिए अभियान चलाए जाते हैं, लेकिन पूरी तरह…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *