मुंबई-पुणे के बीच दौड़ेगी दुनिया की पहली हाइपरलूप ट्रेन

35 0
  • दोनों शहरों के बीच 150 किमी की दूरी महज 14 से 25 मिनट में पूरी होगी, अभी लगते हैं 3 घंटे

मुंबई16 अप्रैल, 1853 को मुंबई से ठाणे के बीच भारत में पहली बार ट्रेन चली थी। अब 164 साल बाद मुंबई में दुनिया की पहली हाइपरलूप चलने की उम्मीद जगी है। पहली हाइपरलूप मुंबई और पुणे के बीच दौड़ सकती है। इसके शुरू होने पर दोनों शहरों के बीच 150 किलोमीटर की दूरी महज 14 से 25 मिनट में तय की जा सकेगी। अभी इसमें 3 घंटे लगते हैं।

अमेरिका के जानी-मानी कंपनी वर्जिन समूह ने महाराष्ट्र सरकार के साथ मुंबई और पुणे के बीच हाइपरलूप परिवहन प्रणाली के निर्माण के लिए ‘आशय पत्र’ पर दस्तखत किए हैं। रविवार को इसकी आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी। वर्जिन समूह के चेयरमैन रिचर्ड ब्रैन्सन ने मैग्नेटिक महाराष्ट्र निवेशक सम्मेलन के पहले दिन कहा, ‘हमने महाराष्ट्र के साथ मुंबई और पुणे के बीच वर्जिन हाइपरलूप के निर्माण के लिए करार किया है। इसकी शुरुआत क्षेत्र में परीक्षण के तौर पर ट्रैक बनाने के साथ होगी।’ उन्होंने कहा कि हवाई अड्डे के गेट पर आसान पहुंच के जरिये हम हर साल 15 करोड़ यात्रियों को लेकर जा सकेंगे।

मुंबई में खुलेंगे रोजगार के अवसर
ब्रैन्सन ने कहा कि इस प्रस्तावित हाइपरलूप से पूरी परिवहन प्रणाली में बदलाव आएगा और महाराष्ट्र इस क्षेत्र में वैश्विक स्तर पर उदाहरण होगा। उन्होंने दावा किया कि इससे हजारों रोजगार के अवसरों का सृजन होगा। इस परियोजना का सामाजिक आर्थिक लाभ 55 अरब डॉलर का होगा। अभी इस परियोजना का ब्योरा मसलन लागत और समयसीमा की घोषणा नहीं की गई है। हाइपरलूप मार्ग में पूरी तरह इलेक्ट्रिक प्रणाली होगी और इसमें प्रति घंटे 1,000 किलोमीटर तक दौड़ने की क्षमता होगी। यह प्रस्तावित परियोजना छह महीने के गहन व्यवहार्यता अध्ययन के बाद शुरू होगी।  (एजेंसी)

Related Post

ब्रिक्स देशों के 20 शीर्ष विश्‍वविद्यालयों में 4 भारतीय

Posted by - November 23, 2017 0
नई दिल्ली । ब्रिक्स देशों (भारत, चीन, रूस, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका) के शीर्ष 20 विश्वविद्यालयों में चार भारतीय संस्थान…

किसान का बेटा नहीं बनना चाहता किसान, दूसरे सेक्टर्स में कॅरियर बना रहे हैं युवा

Posted by - August 23, 2018 0
नई दिल्ली। आपने देखा होगा अक्सर डॉक्टर का बेटा डॉक्टर बनना चाहता है, इंजीनियर का बेटा इंजीनियर, व्यापारी का बेटा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *