पाक के ऊपर से पीएम मोदी का विमान गुजरने पर थमाया 2.86 लाख का बिल

33 0
  • ‘रूट नेविगेशन’ के नाम पर पाकिस्‍तान ने समय-समय पर भारत से वसूले पैसे

नई दिल्ली। पाकिस्‍तान के साथ अपने रिश्तों को सामान्य करने के लिए 2015 में पीएम मोदी पड़ोसी देश में कुछ अर्से के लिए रुके थे। इसके एवज में पाकिस्तान ने भारत को 2.86 लाख रुपए का बिल दिया था। यह बिल पीएम मोदी द्वारा पाकिस्तान के आसमान से गुजरने के लिए दिया गया है जिसे ‘रूट नैविगेशन’ शुल्क कहा जाता है।

पाकिस्तान ने पूर्व पीएम नवाज शरीफ के बर्थडे में शामिल होने पर 1.49 लाख रुपये का बिल भारत सरकार से वसूला गया। पाक सरकार ने भारत से कुल 2.86 लाख रुपयों की वसूली की है। पीएम मोदी का विमान दो बार पाक के ऊपर से उड़ा था, बाकी रकम इसके लिए वसूली गई है। आरटीआई कार्यकर्ता व रिटायर्ड कमाडोर लोकेश बत्रा ने यह सारे आंकड़े जुटाए हैं। इसमें बताया गया है कि जून, 2016 तक पीएम मोदी ने भारतीय वायु सेना के विमान का इस्तेमाल 11 देशों की यात्रा के लिए किया था। इनमें नेपाल, भूटान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान, कतर, आस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, रूस, ईरान व फिजी का दौरा शामिल है।

25 दिसंबर, 2015 को मोदी कुछ देर के लिए लाहौर में रुके थे। पाक के तत्कालीन पीएम नवाज शरीफ ने उनसे आग्रह किया था कि वह जन्म दिन समारोह में शिरकत करने के लिए आएं। तब मोदी रूस व अफगानिस्तान यात्रा से लौट रहे थे। पाकिस्तान में स्थित भारतीय उच्चायोग ने बताया कि शरीफ ने पीएम मोदी को रेड कारपेट सम्मान दिया। भारतीय वायु सेना का बोइंग 737 शाम को 4.50 पर वहां उतरा था। उसके बाद वह हेलीकॉप्टर के जरिये शरीफ के रायविंद निवास पर गए थे। आरटीआई में बताया गया कि 77215 रुपये का बिल 22-23 मई, 2016 को अफगान यात्रा के लिए वसूला गया तो 59215 रुपये का बिल 4-6, जून 2016 को कतर यात्रा की एवज में भारत को मिला। दोनों बार मोदी ने पाक हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल किया था।   (एजेंसी)

Related Post

अमेरिका में निर्वस्त्र गनमैन ने की रेस्तरां में अंधाधुंध फायरिंग, 4 को मौत के घाट उतारा

Posted by - April 22, 2018 0
टेनेसी राज्‍य की राजधानी नैशविले में हुई घटना, हमले में 4 अन्‍य घायल, एक की हालत गंभीर वाशिंगटन। अमेरिका के टेनेसी…

शैवाल की ऐसी प्रजातियां मिलीं, जो जलवायु परिवर्तन की निगरानी में मददगार

Posted by - September 11, 2018 0
लखनऊ। अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले में ऐसी शैवाल प्रजातियां मिली हैं, जिनका उपयोग जलवायु परिवर्तन की निगरानी के लिए…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *