वेनेजुएला में महंगाई से हाहाकार, 80 हजार में बिक रहा एक लीटर दूध

84 0
  • वेनेजुएला की सरकार ने दुनिया भर के देशों से लगाई मदद की गुहार
  • चंद दिनों में वेनेजुएला छोड़कर पड़ोसी देश कोलंबिया पहुंचे 10 लाख लोग

कराकस। दक्षिण अमेरिकी देश वेनेजुएला के आर्थिक हालात बेहद खराब हो गए हैं। यहां महंगाई आसमान छू रही है। वेनेजुएला में आलम यह है कि यहां एक ब्रेड की कीमत हजारों रुपए हो गई हैं। एक किलो मीट के लिए 3 लाख और एक लीटर दूध के लिए 80 हजार तक खर्च करने पड़ रहे हैं।

वेनेजुएला की सरकार ने दुनिया भर के देशों से गुहार लगाई है कि वे यहां के हालात सुधारने में उनकी मदद करें। दुनिया का बड़ा तेल भंडार होने के बावजूद पूरा देश आर्थिक संकट से जूझ रहा है। इस देश के हालात इतने बिगड़ गए हैं कि लोग वेनेजुएला छोड़कर पड़ोसी देश कोलंबिया भागने को मजबूर हैं। वहीं कोलंबिया का कहना है कि चंद दिनों में वेनेजुएला के करीब 10 लाख लोग उसके यहां आकर शरण ले चुके हैं, जिसके चलते उन पर दबाव बन रहा है।

इस वजह से बिगड़े वेनेजुएला के हालात
जानकारों का कहना है कि वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट आने के चलते वेनेजुएला में आर्थिक संकट आया है। साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि यहां के सरकार की गलत नीतियों के चलते भुखमरी के हालात बने हैं। इस कठिन परिस्थिति से देश को निकालने के लिए वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस माडुरो राजधानी कराकस में लगातार बैठकें कर रहे हैं। वे दुनिया भर के बड़े देशों से आग्रह कर चुके हैं कि वे मदद को आगे आएं।

22 अप्रैल को देश में होंगे चुनाव
वेनेजुएला की राष्ट्रीय निर्वाचन परिषद (सीएनई) ने ऐलान किया है कि देश में राष्ट्रपति चुनाव 22 अप्रैल को होंगे। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, बुधवार को यह घोषणा सत्तारूढ़ नेशनल कंस्टीट्यूएंट असेंबली (एएनसी) के उस फैसले के अनुरूप हुई, जिसमें राष्ट्रपति चुनाव 30 अप्रैल से पहले कराए जाने की समयसीमा निर्धारित की गई थी। राष्ट्रपति निकोलस मडुरो युनाइटेड सोशलिस्ट पार्टी (पीएसयूवी) की ओर से दोबारा इस पद के लिए चुनाव लड़ेंगे। मडुरो ने तीन फरवरी को सीएनई से बिना किसी देरी के चुनाव की तारीख निर्धारित करने का आग्रह किया था।  (एजेंसी)

Related Post

दिल्‍ली में प्रदूषण : फिर से ऑड-ईवन, 13 से 17 नवंबर तक चलेगा अभियान

Posted by - November 9, 2017 0
एनजीटी और हाईकोर्ट की फटकार के बाद जागी सरकार, राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भी दिया नोटिस एनजीटी का सख्‍त रुख,…

इस उम्र से पहले बच्चों को नहीं भेजना चाहिए स्कूल, हर पैरेंट्स को पता होनी चाहिए ये बात

Posted by - October 10, 2018 0
सैक्रामेंटो ( कैलिफोर्निया)। भारत में ज्यादातर बच्चों को पैरेंट्स कम उम्र में स्कूल भेजना शुरू कर देते हैं।  एज ये…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *