भारत-ईरान के बीच सुरक्षा, व्यापार और ऊर्जा समेत 9 करारों पर सहमति

45 0
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- चाबहार प्रोजेक्ट में सहयोग करेगा भारत

नई दिल्लीईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच शनिवार को डेलिगेशन लेवल की बातचीत हुई। इस मीटिंग के बाद दोनों देशों के बीच सुरक्षा, व्यापार और ऊर्जा समेत 9 करारों पर सहमति बनी। ज्वाइंट स्टेटमेंट में मोदी ने कहा – ‘चाबहार पोर्ट को डेवलप करने के लिए लीडरशिप देने पर मैं ईरान का शुक्रिया अदा करता हूं। चाबहार गेटवे के लिए भारत सहयोग करेगा।’ इससे पहले रूहानी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मिले। राष्ट्रपति भवन में उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। उन्होंने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि भी दी।

पड़ोसियों को आतंक से मुक्त देखना चाहते हैं भारत-ईरान

ज्वाइंट स्टेटमेंट में नरेंद्र मोदी ने कहा – ‘मैं 2016 में तेहरान गया था और अब जब आप (रूहानी) यहां आए हैं तो इससे हमारे रिश्ते गहरे और मजबूत हुए हैं। दोनों देश पड़ोसी अफगानिस्तान को सुरक्षित और समृद्ध देखना चाहते हैं। हम अपने पड़ोसियों को आतंक से आजाद देखना चाहते हैं।’ इस मौके पर रुहानी ने कहा – ‘हमें भारत सरकार से काफी प्यार मिला और इसके लिए मैं यहां के लोगों और सरकार का शुक्रिया अदा करता हूं। दोनों देशों के रिश्‍ते कारोबार और व्यापार से बहुत आगे हैं। ये इतिहास से जुड़ा है। परिवर्तन और अर्थव्यवस्था इन 2 महत्वपूर्ण मुद्दों पर हमारी राय एक है। हम दोनों देशों के बीच रेलवे संबंध भी शुरू करना चाहते हैं। दोनों देश चाबहार पोर्ट के विकास में भी शामिल हैं।’ बता दें कि राष्ट्रपति हसन रूहानी भारत के तीन दिवसीय दौरे पर थे। शनिवार को रूहानी के दौरे का आखिरी दिन रहा।

भारत-ईरान के बीच हुए ये 9 करार

  • डबल टैक्सेशन और टैक्स सेविंग के लिए पैसे बाहर भेजने की रोकथाम के लिए समझौता।
  • डिप्लोमैटिक पासपोर्टधारकों को वीजा में छूट के लिए एमओयू।
  • एक्स्ट्राडीशन ट्रीटी (प्रत्यर्पण संधि) का लागू करने के लिए समझौता।
  • चाबहार पोर्ट के पहले फेस के लिए समझौता।
  • ट्रेडिशनल सिस्टम और मेडिसिन में सहयोग के लिए समझौता।
  • आपसी व्यापार को बढ़ाने के लिए समझौता।
  • एग्रीकल्चर और उससे जुड़े सेक्टर में सहयोग के लिए समझौता।
  • स्वास्थ्य-दवाओं के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के लिए समझौता।
  • पोस्टल सहयोग के लिए एमओयू।

चाबहार होगा ट्रांजिट रूट

रूहानी शुक्रवार को हैदराबाद की मक्का मस्जिद में नमाज अदा करने पहुंचे थे। इस मौके पर उन्होंने कहा था कि ईरान का चाबहार बंदरगाह भारत के लिए (पाकिस्तान से गुजरे बगैर) ईरान और अफगानिस्तान, मध्य एशियाई देशों के साथ यूरोप तक ट्रांजिट रूट खोलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि ईरान तेल और नेचुरल गैस रिसोर्स के मामले में अमीर है, इसलिए वह भारत की तरक्की के लिए अपने नेचुरल रिसोर्सेज साझा करने को तैयार है। इसके अलावा रूहानी ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के लिए वीजा नियमों में ढील देने की भी मंशा जाहिर की।  (एजेंसी)

Related Post

राकेश अस्थाना बने रहेंगे स्पेशल डायरेक्टर सीबीआई

Posted by - November 28, 2017 0
सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की उनकी नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका नई दिल्ली। आईपीएस अफसर राकेश अस्थाना सीबीआई के विशेष…

सुप्रीम कोर्ट ने जेपी से पूछा – देश में चल रहे कितने प्रॉजेक्ट्स

Posted by - January 10, 2018 0
जेपी एसोसिएट्स को जल्द से जल्द 125 करोड़ रुपए जमा करवाने का निर्देश नई दिल्ली।  जेपी एसोसिएट लिमिटेड के खिलाफ दिवालिया…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *