पीएनबी महाघोटाले में नीरव मोदी की 5100 करोड़ की संपत्ति जब्त

56 0
  • प्रवर्तन निदेशालय ने कहा – हांगकांग से निकाली गई थी घोटाले की रकम
  • नीरव और मेहुल चोकसी समेत चार आरोपियों को पूछताछ के लिए समन जारी
  • नीरव, त्‍नी एमी समेत परिवार के अन्य सदस्‍यों के पासपोर्ट रद्द करने की मांग

नई दिल्‍ली/मुंबई। पंजाब नेशनल बैंक में महाघोटाला उजागर होने के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने गुरुवार को अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। एक्शन में आने के बाद ईडी ने बताया कि इस घोटाले की रकम हांगकांग से निकाली गई थी। अब ईडी हांगकांग के अधिकारियों के साथ संपर्क कर जानने की कोशिश कर रही है कि इस रकम का क्या हुआ। ईडी ने नीरव मोदी और मेहुल चोकसी समेत इस घोटाले के चार आरोपियों को पूछताछ के लिए समन भी जारी किया है।

इससे पहले, गुरुवार को ईडी ने नीरव मोदी के जयपुर, सूरत, दिल्ली समेत कुल 17 स्थानों पर छापेमारी की। नीरव मोदी के दफ्तरों, शोरूम और वर्कशाप पर  छापेमारी के दौरान ईडी ने करीब 5,100 करोड़ रुपये की संपत्ति भी जब्त की। ईडी  की ओर से जब्त की गई संपत्ति में सोना, हीरा और कीमती पत्थर शामिल हैं। मामले में सीबीआई और पंजाब नेशनल बैंक की ओर से शिकायत मिलने के बाद ईडी ने छापेमारी और तलाशी अभियान की कार्रवाई की है। इसके अलावा ईडी ने विदेश मंत्रालय को खत लिखकर नीरव मोदी, उनकी पत्नी एमी मोदी समेत अन्य के पासपोर्ट रद्द करने की मांग की है।

ईडी के अधिकारियों ने बांद्रा कुर्ला कांप्लेक्स में भारत डायमंड बॉर्स में फायरस्टार डायमंड प्राइवेट लिमिटेड के मुख्यायल, कुर्ला पश्चिम स्थित कोहिनूर सिटी में नीरव मोदी के निजी दफ्तर, उनके शोरूम, दक्षिण मुंबई में फोर्ट स्थित इट्स हाउस में बुटिक और लोअर परेल में पेनिंसुला बिजनेस पार्क स्थित वर्कशाप में छापेमारी की। इसके अलावा गुजरात के सूरत में ईडी के अधिकारियों ने सचिन टाउन स्थित सूरत एसईजेड में हीरे की 6 कारखानों की तलाशी ली। इसके अलावा यहां हीरे-जेवरात के एक बड़े केंद्र रिंग रोड स्थित वेल्जियम टावर में एक दफ्तर पर भी ईडी का छापा पड़ा। नई दिल्ली के चाणक्यपुरी और डिफेंस कॉलोनी में मोदी की हीरों की दो दुकानों पर भी ईडी अधिकारियों ने छापे मारे।

यूरोप, यूएस और मध्यपूर्व में भी है नीरव का कारोबार

बताया जाता है कि नीरव मोदी का कारोबार भारत के अलावा यूरोप, अमेरिका, मध्यपूर्व व सुदूर पूर्व में भी है। इस घोटाले की रकम विजय माल्या के 9,000 करोड़ रुपये का भुगतान करने से मुकरने से बड़ी है। बैंकों को चूना लगाने के ये मामले तब उजागर हो रहे हैं, जब बैंकों के डूबे हुए कर्ज को लेकर भारतीय बैंकिंग प्रणाली सवालों के दौर से गुजर रही है।  (एजेंसी)

Related Post

इस उम्र से पहले बच्चों को नहीं भेजना चाहिए स्कूल, हर पैरेंट्स को पता होनी चाहिए ये बात

Posted by - October 10, 2018 0
सैक्रामेंटो ( कैलिफोर्निया)। भारत में ज्यादातर बच्चों को पैरेंट्स कम उम्र में स्कूल भेजना शुरू कर देते हैं।  एज ये…

सीबीआई ने तेजस्वी से 7 घंटे तक की पूछताछ, पूछा – कोचर बंधु की जमीन आपके पास कैसे

Posted by - October 7, 2017 0
रेलवे टेंडर घोटाले में पूर्व उप मुख्‍यमंत्री से उनकी संपत्तियों और स्रोत के बारे में जानकारी मांगी पटना। बिहार के…

CWG : शूटिंग में तेजस्विनी का गोल्ड पर निशाना, अंजुम ने जीता सिल्वर मेडल

Posted by - April 13, 2018 0
गोल्ड कोस्ट (ऑस्ट्रेलिया)। यहां चल रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने का भारतीय खिलाड़ियों का सफर जारी है। इस…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *