अब वैश्विक आतंकी फंडिंग की वॉचलिस्ट में शामिल होगा पाक

31 0
  • अमेरिका कर रहा है पाकिस्तान को आतंक समर्थित देशों की लिस्ट में डालने की तैयारी

वाशिंगटन। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के संकल्प पर पाकिस्तान कुछ नहीं कर रहा। यह बात विदेश मंत्रालय ने पेरिस में 18 से 23 फरवरी तक होने वाली फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक से ठीक पहले कही है। इस बैठक में पाकिस्तान को आतंकियों को धन मुहैया कराने वाले देशों पर नजर रखने वाली अंतरराष्ट्रीय सूची में डालने का प्रस्ताव रखा जा सकता है। भारत इस आशय की मांग लंबे अर्से से कर रहा है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के अनुसार, पाकिस्तान में मौजूद आतंकियों को मदद पहुंचाने वाले आर्थिक ढांचे और अन्य सुविधाओं को खत्म करने की अपेक्षा पूरी नहीं हो रही। सुरक्षा परिषद के स्पष्ट निर्देश के बावजूद पाकिस्तान संकल्पों पर अमल नहीं कर रहा। मंत्रालय ने कहा, ‘बड़ी चिंता की बात यह है कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1267 की प्रतिबद्धता को मानने से नकारता रहा है।’ सुरक्षा परिषद का संकल्प 1267 कहता है कि अल कायदा से जुड़े आतंकी संगठनों के ढांचे को खत्म करने के लिए हर तरह की कार्रवाई की जाए।

गौरतलब है कि अमेरिका ने पहली बार सुरक्षा परिषद के संकल्प को लेकर पाकिस्तान को लताड़ लगाई है और उसे निगरानी सूची में डालने के संकेत दिए हैं। इस सूची में डाले जाने से पाकिस्तान को अमेरिका और यूरोपीय यूनियन से संवेदनशील सामग्री और सहायता मिलनी मुश्किल हो जाएगी। बता दें कि एफएटीएफ एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है जो गैरकानूनी फंडिंग के खिलाफ मानकों को तय करती है। माना जा रहा है कि एफएटीएफ की वॉचलिस्ट में आने के बाद पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका पहुंच सकता है। इससे विदेशी निवेशों का पहुंचना भी मुश्किल हो जाएगा। इसके अलावा पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय बाजारों से कर्ज लेना भी मुश्किल हो सकता है। (एजेंसी)

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *