दबाव में झुका पाकिस्तान, हाफिज सईद को घोषित किया आतंकी

75 0
  • राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने एंटी टेरेरिज्म एक्ट से जुड़े अध्यादेश पर किए दस्तखत

इस्‍लामाबाद। अमेरिका की धमकियों और वैश्विक दबाव के आगे आखिर पाकिस्तान को झुकते हुए कड़ा फैसला लेने को मजबूर होना पड़ा। मंगलवार को पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने ‘एंटी टेरेरिज्म एक्ट’ से जुड़े अध्यादेश पर दस्तखत करते हुए पाक ने हाफिज सईद को आतंकी घोषित कर दिया है। साथ ही, उसके संगठन जमात-उद-दावा (जेयूडी) को आतंकी संगठन घोषित किया है। पाक ने अभी तक जेयूडी को सिर्फ आतंकी लिस्‍ट में डाला था लेकिन उसे आतंकी संगठन मानने से इनकार कर दिया था।

‘एंटी टेरेरिज्म एक्ट’ से जुड़े अध्यादेश पर दस्तखत करने के बाद अब पाकिस्तान सरकार को उन आतंकी संगठनों और उनसे जुड़े लोगों के ऑफिस और अकाउंट बंद करने होंगे, जिन्हें संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) बैन कर चुकी है। इनमें लश्‍कर-ए-तैयबा, अल-कायदा, हरकत-उल-मुजाहिद्दीन और तालिबान जैसे संगठन शामिल हैं। यूएन की इस लिस्ट में कुल 27 संगठन हैं। बता दें कि अब तक पाकिस्तान इन संगठनों पर अपनी मर्जी के हिसाब कार्रवाई करता आया है, जो सिर्फ दिखावे के लिए होती थी।

उधर, पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पंजाब पुलिस ने आतंकी हाफिज सईद के प्रतिबंधित संगठन ‘जमात उद दावा’ के खिलाफ कार्रवाई की है। पुलिस ने ‘जमात उद दावा’ के हेडक्वार्टर के बाहर एक दशक से ज्यादा समय पहले सुरक्षा के नाम पर लगाए गए अवरोधक हटा दिए हैं। बता दें कि पाक सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस साकिब निसार ने पंजाब पुलिस को लाहौर में सुरक्षा के नाम पर ब्लॉक की गईं सभी सड़कों को खोलने का आदेश दिया था।

राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधक प्राधिकरण (एनएसीटीए) ने इस नए कदम की पुष्टि की है। एनएसीटीए के मुताबिक, अब गृह मंत्री, वित्त मंत्री और विदेश मंत्री के साथ-साथ एनएसीटीए की आतंकवाद वित्तपोषण विरोधी (सीएफटी) यूनिट इस मामले पर एक साथ मिलकर काम करेगी । हालांकि इस संबंध में राष्ट्रपति भवन ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है।  (एजेंसी)

Related Post

जुकरबर्ग बोले – भारत में लोकसभा चुनाव से पहले करेंगे डेटा सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

Posted by - March 23, 2018 0
जुकरबर्ग ने कहा – हमारा ध्यान सिर्फ अमेरिकी चुनाव पर नहीं, बल्कि भारत, ब्राजील के चुनाव पर भी  वॉशिंगटन। इन दिनों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *