ओमान की मस्जिद में पहुंचे पीएम मोदी, 200 साल पुराने मंदिर में किए दर्शन

97 0
  • तीन देशों का दौरा पूरा कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्‍वदेश रवाना

मस्कट तीन देशों के दौरे के आखिरी पड़ाव ओमान के मस्कट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को करीब 200 साल पुराने शिव मंदिर में दर्शन किए। इसके बाद वो यहां की सबसे बड़ी और मशहूर सुल्तान कबूस मस्जिद भी गए। इससे पहले पीएम ने यहां डिप्टी पीएम सैयद असद बिन अल-सैद और बड़े बिजनेस सीईओज से मुलाकात की। मोदी ने सैयद असद से इंटरनेशनल रिलेशन और कोऑपरेशन के मसलों पर चर्चा की। रविवार को दोनों देशों के बीच टूरिज्म और मिलिट्री को-ऑपरेशन समेत आठ समझौते हुए। रविवार को ही मोदी ने अबु धाबी में वहां के पहले हिंदू मंदिर की नींव रखी थी।

मस्कट के 200 साल पुराने शिव मंदिर में दर्शन करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

मस्कट में मोदी मोतीश्वर मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचे। इसमें शिवलिंग और हनुमान जी की मूर्ति स्थापित है। इस मंदिर के करीब एक कुआं है। बताया जाता है कि रेगिस्तान के बीच होने के बावजूद यह कभी सूखता नहीं है। मोदी भारत के पहले पीएम हैं, जो इस मंदिर में पहुंचे हैं। मंदिर में दर्शन के बाद पीएम मस्कट और ओमान की सबसे मशहूर सुल्तान कबूस मस्जिद भी गए। ओमान के अफसरों ने पीएम को इस मस्जिद की खासियतें बताईं। इसके कुछ देर बाद प्रधानमंत्री नई दिल्ली के लिए रवाना हो गए। बता दें कि इससे पहले अगस्त 2015 में पीएम नरेंद्र मोदी जब यूएई के दौरे पर गए थे तो वहां अबु धाबी की मशहूर शेख जायेद मस्जिद गए थे।

यह दौरा मरीन स्ट्रैटजी के लिए अहम

मोदी का ओमान दौरा मरीन स्ट्रैटजी रिलेशंस के लिए अहम माना जा रहा है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता रवीश कुमार ने ट्वीट के जरिए बताया कि दोनों देशों के रिश्तों को मजबूती देने के मकसद से पीएम मोदी ने सुल्तान कबूस बिन सैद-अल-सैद के साथ डेलिगेशन लेवल की बातचीत की। दोनों देशों के बीच कारोबार, इन्वेस्टमेंट, एनर्जी, डिफेंस, फूड सिक्युरिटी और रीजनल मामलों में मदद को मजबूत करने पर भी चर्चा हुई।  (एजेंसी)

Related Post

जाने-अनजाने आपको रोज किसी न किसी मुद्दे पर दुखी करते हैं FACEBOOK FRIENDS

Posted by - September 28, 2018 0
बुफेलो (न्यूयॉर्क)। अमेरिका की बुफेलो यूनिवर्सिटी में हुई रिसर्च सोशल मीडिया यूजर्स को इसके खतरों के प्रति आगाह कर रही…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *