आतंकी हाफिज सईद ने पाक सरकार को दी गिरफ्तार करने की चुनौती

23 0
  • जमात-उद-दावा प्रमुख ने कहा – हमें दबाने का प्रयास किया तो और मजबूत होकर उभरेंगे
  • कश्मीर मुद्दे पर भूमिका नहीं निभाने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की आलोचना की

लाहौरकुख्यात आतंकी हाफिज सईद के सामने पाकिस्‍तान सरकार भी अब बौनी नजर आने लगी है। प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा के प्रमुख और मुंबई आतंकवादी हमले का मास्‍टरमाइंड हाफिज सईद ने सोमवार को पाकिस्तान सरकार को उसे गिरफ्तार करने की चुनौती दी। सईद ने कहा कि वह कश्मीरी लोगों के लिए लड़ना बंद नहीं करेगा।

हाफिज सईद ने लाहौर में एक रैली में कहा, ‘अगर पाकिस्‍तान सरकार मुझे गिरफ्तार करना चाहती है तो आए और करे, लेकिन मैं कश्मीरियों के लिए लड़ना बंद नहीं करूंगा।’ सईद ने कहा, ‘अगर आपने हमें दबाने का प्रयास किया तो हम और मजबूत होकर उभरेंगे।’ आतंकी सरगना ने कश्मीर मुद्दे पर अपनी भूमिका नहीं निभाने के लिए अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की भी आलोचना की। सईद ने कहा, ‘अगर आप कश्मीर की स्वतंत्रता के लिए काम करने का संकल्प जताते हैं तो हम आपको (शरीफ को) फिर से प्रधानमंत्री बनाने के लिए प्रयास शुरू कर सकते हैं।’

हाफिज सईद ने यह भी दावा किया कि अमेरिका और भारत के दबाव की वजह से पाकिस्तानी मीडिया में उसकी कवरेज बैन कर दी गई है। सईद को पाकिस्तान ने गत नवंबर में नजरबंद किया था। बता दें कि अप्रैल 2012 में अमेरिका ने आतंकवाद के लिए जिम्मेदार लोगों की लिस्ट जारी की थी, जिसमें हाफिज सईद का नंबर दो पर था। अमेरिका ने उसके ऊपर एक करोड़ डॉलर का इनाम भी घोषित कर रखा है। भारत ने सईद के खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया हुआ है। यही नहीं, संयुक्त राष्ट्र इसके संगठन जमात-उद-दावा को आतंकी संगठन घोषित कर चुका है।

Read More : https://khabar.ndtv.com/news/world/terrorist-hafiz-saeed-gave-open-challenge-to-the-pakistan-government-come-on-arrest-1809032

Related Post

यूपी इन्वेस्टर्स समिट : गोरखपुर के सपनों को भी लगेंगे पंख

Posted by - February 21, 2018 0
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जिले में दो दर्जन से अधिक उद्यमी नया उद्योग लगाने को इच्छुक गोरखपुर। यूपी में शुरू…

पॉक्सो एक्ट में बदलाव पर हाईकोर्ट ने उठाए सवाल, केंद्र से पूछा – क्या कोई रिसर्च की?

Posted by - April 23, 2018 0
दिल्‍ली हाईकोर्ट ने पूछा – अध्यादेश लाने से पहले किसी पीड़िता से पूछा गया कि वे क्या चाहती हैं? सरकार…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *