यशवंत सिन्हा ने बनाया राष्ट्रीय मंच, किसानों के मुद्दों पर करेंगे आंदोलन

134 0
  • राष्‍ट्रीय मंच में शत्रुघ्‍न सिन्‍हा, जयंत चौधरी, आप के संजय सिंह और आशुतोष भी
  • भाजपा नेता ने कहा – राज्य और केंद्र सरकारों ने किसान को भिखमंगा बना दिया

नई दिल्लीबीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने मंगलवार को राष्‍ट्रीय मंच बनाने को घोषणा की। उन्‍होंने कहा कि हम किसानों के मुद्दों को लेकर आंदोलन करेंगे और उसके साथ दूसरे महत्‍वपूर्ण मुद्दों पर सरकार की ग़लत नीतियों को उजागर करेंगे। उन्‍होंने कहा कि हम सब यहां महत्‍वपूर्ण कार्यक्रम के लिए आए हैं। इस कार्यक्रम में कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी भी शामिल हुईं।

सिन्‍हा ने कहा, ‘मैं घोषणा करता हूं कि राष्ट्रमंच का सबसे बड़ा मुद्दा किसानों का होगा। एनपीएस को ही देख लीजिए। नोटबंदी को मैं आर्थिक सुधार मानता हूं, फिर बुरी तरह लागू की गई जीएसटी जिससे छोटे उद्योग मर गए। बेरोज़गारी का क्या हाल है? भूख और कुपोषण के चलते बच्चों का भविष्य ख़तरे में है। आंतरिक सुरक्षा को देख लीजिए, ऐसे लगता है कि भीड़ ही न्याय करेगी और जब जाति और धर्म पर भीड़ तंत्र आता है तो उसको संभालना सबसे मुश्किल है।’ उन्‍होंने कहा कि बताया जाता है कि हमारी सबसे बड़ी उपलब्धि विदेश नीति है, पर डोकलाम को ही देख लीजिए। खबरों को मानें तो जो चीन 10% था वो 90 % हो गया है। अब कोई 56 इंच की छाती को नहीं पूछता।

ये नेता राष्‍ट्रीय मंच में हुए शामिल 
यशवंत सिन्‍हा के राष्‍ट्रीय मंच में शत्रुघ्न सिन्हा, दिनेश त्रिवेदी (टीएमसी), माजिद मेमन, संजय सिंह (आप), सुरेश मेहता (पूर्व मुख्यमंत्री गुजरात), हरमोहन धवन (पूर्व केंद्रीय मंत्री), सोमपाल शास्त्री (कृषि अर्थशास्‍त्री), पवन वर्मा (जेडीयू), शाहिद सिद्दीक़ी, मोहम्मद अदीब, जयंत चौधरी (आरएलडी), उदय नारायण चौधरी (बिहार), नरेंद्र सिंह (बिहार), प्रवीण सिंह (गुजरात के पूर्व मंत्री), आशुतोष (आप) और घनश्याम तिवारी (सपा) शामिल हुए हैं।

यशवंत सिन्‍हा ने दिल्‍ली में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा कि हम सब अचानक साथ नहीं आए हैं। हम सब कई महीनों से संपर्क में थे और देश की वर्तमान स्थिति पर चिंतित हैं। उन्‍होंने कहा कि हमें लगा कि देश की जनता के लिए एक आंदोलन करने की ज़रूरत है और हम वैचारिक रूप से एक-दूसरे से जुड़े हैं।

नहीं तो बापू का बलिदान व्‍यर्थ हो जाएगा

यशवंत सिन्‍हा ने कहा, ‘हम बापू की समाधि पर गए तो लगा कि बापू का सरकारीकरण हो गया है। हमें अंदर नहीं जाने दिया, फिर काफी मान-मनौव्‍वल के बाद हमें और मीडिया को अंदर जाने दिया गया।’ उन्‍होंने कहा, ‘70 साल पहले आज के दिन उस महामानव ने देश के लिए अपना बलिदान दिया था। वर्तमान स्थिति में भी देश उन्हीं समस्याओं से ग्रस्त है। अगर आज हम नहीं खड़े हुए तो बापू का बलिदान व्यर्थ जाएगा।’

हमें देश के 60 करोड़ किसानों की फिक्र

सिन्‍हा ने कहा, ‘न्यायालय में क्या हो रहा है, अब लीपापोती की जा रही है। आरोप क्या था कि कुछ केस को प्रेफ़र्ड बेंच पर भेजा जा रहा था। क्या देश की जनता को जानने का हक़ नहीं है? मीडिया प्रजातंत्र का चौथा स्तंभ है, उसका हाल आप देख ही रहे हैं। जो जांच एजेंसियां हैं सीबीआई, इनकम टैक्स आदि, उनको किसलिए इस्तेमाल किया जा रहा है?’ भाजपा नेता ने कहा कि औद्योगिक विकास कम है और हमें देश के 60 करोड़ किसानों की फिक्र है। राज्य और केंद्र सरकारों ने किसान को भिखमंगा बना दिया है। किसान को न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य (एमएसपी) नहीं मिल रहर है। ये कभी मुद्दा नहीं बनता है।

Read More : https://khabar.ndtv.com/news/india/bjp-rebel-leader-yashwant-sinha-created-a-rashtriya-manch-1806358

Related Post

यूपी के बस्ती में गिरा निर्माणाधीन फ्लाईओवर, चार मजदूर घायल, दो मलबे में दबे

Posted by - August 11, 2018 0
बस्‍ती। देश में बारिश के चलते निर्माणाधीन इमारत और फ्लाईओवर गिरने का सिलसिला लगातार जारी है। अभी वाराणसी में फ्लाईओवर…

चीन के साथ रिश्तों का नया युग शुरू, मोदी बोले- मिलकर बदल सकते हैं दुनिया  

Posted by - April 28, 2018 0
वुहान। डोकलाम घटना के बाद भारत-चीन रिश्तों में नए युग की शुरुआत होने की उम्मीद बढ़ी है। पीएम नरेंद्र मोदी…

केंद्र का फैसला : अब भ्रष्ट अफसरों को नहीं जारी किया जाएगा पासपोर्ट

Posted by - March 30, 2018 0
नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने फैसला लिया है कि आपराधिक या भ्रष्टाचार का सामना कर रहे अधिकारियों को पासपोर्ट नहीं जारी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *