राष्ट्रपति ने अभिभाषण में दिया एक साथ चुनाव कराने पर जोर

43 0
  • बजट अभिभाषण में सरकार की उपलब्धियों और उके एजेंडे को सके सामने रखा
  • बोले – सरकार के राजनयिक प्रयासों के कारण विश्व में भारत को नया सम्मान मिला

नई दिल्‍ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ ही सोमवार को बजट सत्र की शुरुआत हो गई। राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में सरकार की उपलब्धियों और उनके एजेंडे को सभी के सामने रखा। अपने अभिभाषण में राष्ट्रपति ने एक साथ चुनाव करवाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि बार-बार चुनाव होने से विकास पर असर पड़ता है। विदेश नीति की तारीफ करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार के राजनयिक प्रयासों के कारण विश्व में भारत को नया सम्मान मिला है।

बजट सत्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सभी देशवासियों को त्योहारों और गणतंत्र दिवस की बधाई दी। उन्होंने आसियान देशों के प्रमुखों की उपस्थिति की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि इसने हमारे देश की वसुधैव कुटुम्‍बकम की भावना को नया आयाम दिया है। उन्होंने कहा कि मेरी सरकार सामाजिक और आर्थिक परिस्थिति को मजबूत करने का काम कर रही है। राष्ट्रपति ने कहा कि शौचालयों को बनाकर सरकार लोगों की सहायता कर रही है और 2019 तक स्वच्छ भारत बनाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के लिए तत्पर है।

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ को बढ़ावा

राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार ने संसद में तीन तलाक बिल पेश किया, जल्द ही इसे कानून भी बनाया जाएगा। देश में ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का दायरा बढ़ रहा है। सरकार गरीबों की पीड़ा को दूर करने की कोशिश कर रही है। 640 जिलों में ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ की योजना चल रही है।

किसानों की आय दोगुना करना सरकार का लक्ष्य

उन्होंने कहा कि सरकार का जोर किसानों की आय को दोगुना करना है। दाल के उत्पादन में 38 फीसदी की रिकॉर्ड बढ़ोतरी दर्ज हुई है। 99 सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करना सरकार का लक्ष्य है, साथ ही अनाज की बर्बादी को रोकने के लिए सरकार ने योजना बनाई है। उन्होंने कहा कि सरकार के कार्यकाल में यूरिया का उत्पादन बढ़ा है। राष्ट्रपति ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लागू की और किसानों के लिए बीमा करवाना आसान किया।

तुष्टिकरण नहीं सशक्तिकरण पर जोर

राष्ट्रपति ने कहा कि तुष्टिकरण नहीं सशक्तिकरण के तहत अल्पसंख्यकों के लिए सरकार लगातार काम कर रही है। ‘सीखो और कमाओ’, ‘उस्ताद’ जैसी कई योजनाओं को आगे बढ़ाया जा रहा है। पहली बार मेहरम के नियम को बदला गया है। इसके तहत अब 45 से अधिक उम्र की महिला बिना किसी पुरुष साथी के हज पर जा सकती है।

गरीब को घर देना सरकार का लक्ष्य

राष्‍ट्रपति ने कहा, पिछले साढ़े तीन वर्षों में शहरी और ग्रामीण इलाकों में 93 लाख से अधिक घरों का निर्माण किया गया है। ‘प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी’ के अंतर्गत गरीबों को घर बनाने के लिए ब्याज दर में 6 प्रतिशत की राहत दी जा रही है। सभी के सिर पर छत हो और उसे पानी-बिजली-शौचालय की सुविधा मिले, इस संवेदनशील सोच के साथ मेरी सरकार देश के हर आवासहीन गरीब परिवार को वर्ष 2022 तक घर उपलब्ध कराने के लक्ष्य पर काम कर रही है।

नई स्वास्थ्य नीति पर जोर

उन्होंने कहा कि मेरी सरकार ने गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों को स्वास्थ्य की बेहतर और सस्ती सुविधा के लिए नई ‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति’ बनाई है। ‘प्रधानमंत्री जन औषधि’ केन्द्रों के माध्यम से गरीबों को 800 तरह की दवाइयां सस्ती दरों पर दी जा रही हैं। इन केन्द्रों की संख्या अब 3,000 के पार पहुंच चुकी है। ‘दीनदयाल अमृत योजना’ के तहत 111 आउटलेट के माध्यम से 5,200 से अधिक जीवन-रक्षक ब्रांडेड दवाओं तथा सर्जिकल इम्प्लांट्स पर 60 प्रतिशत से 90 प्रतिशत तक की रियायत दी जा रही है। डॉक्टरों की उपलब्धता बढ़ाने के लिए एमबीबीएस की 13 हजार सीटें तथा पोस्ट ग्रेजुएट की 7,000 से अधिक सीटें मंजूर की गई हैं।

युवाओं के विकास पर ध्यान

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि हमारा देश, दुनिया का सबसे युवा देश है। देश के युवा अपने सपने पूरे कर सकें, स्वरोजगार कर सकें, इसके लिए मेरी सरकार स्टार्ट अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया, स्किल इंडिया मिशन, मुद्रा योजना जैसे कार्यक्रम चला रही है। उन्होंने कहा कि जो उद्योग या कंपनियां नौकरियों के नए अवसर सृजित कर रही हैं, उन्हें ‘प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना’ के तहत आर्थिक मदद दी जा रही है। अभी तक 20 लाख से ज्यादा लाभार्थी इस योजना से सहायता प्राप्त कर चुके हैं।

डिजिटल साक्षरता को बढ़ा रहे हैं

उन्होंने कहा कि ‘प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान’ के अंतर्गत मेरी सरकार विश्व का सबसे बड़ा डिजिटल साक्षरता कार्यक्रम चला रही है। इस कार्यक्रम के तहत अभी तक एक करोड़ लोगों को डिजिटल रूप में साक्षर कर दिया गया है। डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने में ‘भीम एप’ बड़ी भूमिका निभा रहा है। हाल ही में लॉन्च किए गए ‘उमंग एप’ द्वारा 100 से ज़्यादा जनसुविधाओं को मोबाइल पर उपलब्ध कराया गया है।

आधार की तारीफ

राष्ट्रपति ने कहा कि आधार द्वारा गरीब लाभार्थियों को उन्हें मिलने वाली सुविधाएं, बिना बिचौलियों के, सीधे पहुंच रहीं हैं। वर्तमान सरकार की 400 से अधिक योजनाओं में डिजिटल भुगतान किया जा रहा है। अब तक 57,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि गलत हाथों में जाने से बचाई गई है। इलेक्ट्रॉनिक्स निर्माण क्षेत्र में सराहनीय प्रयासों के कारण अब देश में 113 मोबाइल कंपनियां कार्यरत हैं, जिनकी संख्या 2014 में मात्र 2 थी। इससे देश के छोटे शहरों में भी हमारे युवाओं को रोजगार के नए अवसर मिल रहे हैं।

बिजली क्षमता में हुई बढ़ोतरी

राष्ट्रपति ने कहा कि पहली बार ऐसा अवसर आया है जब देश में बिजली क्षमता के विस्तार में लक्ष्य से अधिक बढ़ोतरी हुई है। अब भारत बिजली का नेट एक्सपोर्टर बन गया है। 18,000 गांवों तक बिजली पहुंचाने का कार्य भी पूर्णता की तरफ बढ़ रहा है। मेरी सरकार ने ‘वन नेशन वन ग्रिड’ का कार्य पूरा करके राज्यों को सस्ती दरों पर बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित की है। देश के प्रत्येक गांव तथा कस्बे में विद्युत वितरण व्यवस्था मज़बूत करने के लिए लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपए की योजनाएं लागू की गई हैं। ‘उजाला योजना’ के अंतर्गत देश में 28 करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्ब वितरित किए जा चुके हैं। निजी क्षेत्र द्वारा भी 50 करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्ब की बिक्री की गई है। इससे गरीब और मध्यम वर्ग के बिजली बिल में सालाना 40,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की बचत हो रही है।

सौर ऊर्जा में रिकॉर्ड उत्पादन

उन्होंने कहा कि पर्यावरण की रक्षा के साथ ही देश में प्रतिवर्ष 10,000 करोड़ यूनिट बिजली की बचत भी हो रही है। पिछले तीन वर्षों में सौर ऊर्जा के उत्पादन में 7 गुना वृद्धि हुई है। भारत के प्रयास से अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन एक विधायी निकाय बन चुका है। इसका मुख्यालय भारत में ही स्थापित किया गया है।  (एजेंसी)

Related Post

डायबिटीज से बचा सकती है धार्मिक पुस्तक ‘गीता’, रिसर्च में किया गया दावा

Posted by - September 4, 2018 0
हैदराबाद। यहां के ओस्मानिया जनरल हॉस्पिटल के डॉक्टरों के साथ मिलकर एक रिसर्च हुई है। इस रिसर्च को करने वालों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *