प्रधानमंत्री मोदी ने दिए संकेत – लोकलुभावन नहीं होगा बजट

70 0
  • मोदी बोले – आम जनता ईमानदार सरकार चाहती है, वह मुफ्त की चीज नहीं चाहती

नई दिल्‍ली। देश में आम बजट की तैयारियां शुरू हो गई हैं। 2019 चुनाव से पहले मोदी सरकार का यह आखिरी पूर्ण बजट होगा। ऐसे में ये उम्मीद लगाई जा रही थी कि ये बजट थोड़ा लोकलुभावन होगा, जो चुनाव से पहले लोगों को आकर्षित करेगा। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस प्रकार के संकेत दिए हैं कि बजट लोकलुभावन नहीं होगा। ऐसे में इस बजट में भी कुछ कड़े फैसले दिखाई पड़ सकते हैं। बजट 1 फरवरी को पेश किया जाएगा।

अंग्रेजी चैनल ‘टाइम्स नाऊ’ को दिए इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कहा कि आगामी आम बजट कोई लोकलुभावन बजट नहीं होगा और सरकार सुधारों के अपने एजेंडे पर ही चलेगी, जिसके चलते भारतीय अर्थव्यवस्था ‘पांच प्रमुख’ कमजोर अर्थव्यवस्थाओं की जमात से निकलकर दुनिया का ‘आकर्षक गंतव्य’ बन गया है।

मुफ्त की चीज़ें नहीं चाहते लोग

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘यह मात्र एक धारणा है कि लोग मुफ्त की चीजें और छूट चाहते हैं। यह पूछे जाने पर कि पहली फरवरी को पेश होने वाले बजट में क्या वे लोकलुभावन घोषणा करने से बचेंगे, इस पर उन्होंने कहा- ‘तय यह करना है कि देश को आगे बढ़ने और मजबूत होने की जरूरत है या इसे इस राजनैतिक संस्कृति (कांग्रेस की संस्कृति) का अनुसरण करना है।’ मोदी ने कहा, ‘आम जनता ईमानदार सरकार चाहती है। आम आदमी छूट या मुफ्त की चीज नहीं चाहता है… यह (मुफ्त की चीज की चाहत) आपकी कोरी कल्पना है।’

लोग मेरा काम जानते हैं

पीएम मोदी ने कहा कि यह मामला वित्त मंत्री के दायरे में आता है और वह (मोदी) इस काम में हस्तक्षेप नहीं करना चाहते। साथ ही उन्होंने कहा, ‘जिन लोगों ने मुझे गुजरात के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री के रूप में देखा है, वो जानते हैं कि सामान्य जन इस तरह की चीजों (लोकलुभावन) की अपेक्षा नहीं करता, यह एक मिथक (कोरी कल्पना) है।’ उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के फैसले जनता की आवश्यकताओं और आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हैं।

स्विट्जरलैंड के दावोस में होने वाली विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की शिखर बैठक के पूर्ण अधिवेशन को संबोधित करने का अवसर पाने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री का सम्मान पाने के बारे में पूछे जाने पर मोदी ने कहा कि यह भारत की प्रगति के कारण संभंव हुआ है। उन्होंने कहा, ‘भारत ने दुनिया को अपनी शक्ति का परिचय दिया है इसलिए यह स्वाभाविक है कि दुनिया भी भारत के बारे में जानना चाहती है और वह यह जानकारी भारत से (भारत के शासनाध्यक्ष से) सीधे प्राप्त करना चाहती है और उसे समझना चाहती है।’

Read More : https://aajtak.intoday.in/story/budget-2018-narendra-modi-says-popular-budget-1-979253.html

 

Related Post

कोहली की अपील – प्रदूषण से जीतना है तो मिलकर खेलना होगा

Posted by - November 16, 2017 0
नई दिल्‍ली: टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने वीडियो मैसेज के जरिए दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर लगाम लगाने की अपील की…

एयरसेल-मैक्सिस डील : कार्ति चिदंबरम के 5 ठिकानों पर ईडी के छापे

Posted by - January 13, 2018 0
नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने…

OMG : तो अब इस वजह से ‘भारत’ में नहीं नजर आएंगी प्रियंका…

Posted by - July 27, 2018 0
मुंबई। सलमान खान और प्रियंका चोपड़ा की अपकमिंग फिल्म ‘भारत’ को लेकर आए दिन कोई न कोई खबर सामने आ रही है, लेकिन फिल्म ‘भारत’ से…

दबंग कब्‍जा करने लगे घर तो महिला ने किया आत्मदाह का प्रयास

Posted by - June 8, 2018 0
महराजगंज की घटना, पीड़ित महिला ने की जिलाधिकारी कार्यालय पर खुद को जिंदा जलाने की कोशिश  शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’ महराजगंज। पति…

भारत में 74% स्कूली छात्र लेते हैं मैथ्य का ट्यूशन, ग्लोबल एजुकेशन के सर्वे में सामने आई ये सच्चाई

Posted by - November 28, 2018 0
नई दिल्ली। भारत में हर घर का दूसरा बच्चा ट्यूटोरियल क्लासेस पर डिपेंड है। भारत में 74% स्कूली छात्र मैथ…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *