सीएम योगी ने गोरखनाथ मंदिर में चढ़ाई खिचड़ी

45 0
  • योगी आदित्‍यनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार यहां चढ़ाई खिचड़ी
  • मकर संक्रांति की शुभकामनाएं दीं, गोरखनाथ बाबा को खिचड़ी चढ़ाने का महत्व बताया

गोरखपुर। मकर संक्रांति के मौके पर सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर में बाबा गोरखनाथ की पूजा-अर्चना की, खिचड़ी चढ़ाई और प्रसाद ग्रहण किया। योगी ने मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार यहां खिचड़ी चढ़ाई है। उन्होंने सभी को मकर संक्रांति की शुभकामनाएं दीं और गोरखनाथ बाबा को खिचड़ी चढ़ाने के महत्व के बारे में बताया।

सोमवार को ब्रह्म मुहूर्त में गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्‍यनाथ ने खिचड़ी चढ़ाकर सुप्रसिद्ध खिचड़ी मेले का शुभारंभ किया। विधिवत पूजन-अर्चन के बाद परम्‍परा के अनुसार, सबसे पहले नेपाल राजवंश से आई खिचड़ी चढ़ाई गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि प्रदेश व देश की खुशहाली व समृद्धि के लिए उन्होंने खिचड़ी चढ़ाई है। खिचड़ी चढ़ाने के लिए देर रात में ही लाइन लगनी शुरू हो गई थी।

इसी के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश के आस्था के सबसे बड़े केंद्रों में एक गोरखनाथ मंदिर का खिचड़ी मेला आज से प्रारंभ हो गया। सवा महीने से ज्यादा समय तक चलने वाले इस मेले की कमान स्वयं मुख्यमंत्री ने संभाल रखी है। रविवार से ही हजारों लोग शहर में खिचड़ी चढ़ाने पहुंचने लगे थे। गोरखनाथ मंदिर में नेपाल, बिहार व अन्य राज्यों से भी लोग खिचड़ी चढ़ाने के लिए आते हैं। खिचड़ी मेले को लेकर यहां सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई थी।

मान्यता है कि इस दिन खिचड़ी चढ़ाने से लोगों की मनोकामना पूरी होती है। गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने आने वाले श्रद्धालुओं के लिए मंदिर में प्रसाद स्वरूप खिचड़ी खिलाने की परंपरा है। शुद्ध देशी घी में बनी खिचड़ी सबको पूरे दिन परोसा गई। शहर और आसपास के क्षेत्रों के आम और खास खिचड़ी खाने मंदिर हर साल आते हैं।

Related Post

आजादी के बाद पहली बार ठाकुरों के इस गांव में घोड़ी पर पहुंचा कोई दलित दूल्हा

Posted by - July 16, 2018 0
कासगंज जिले के निजामपुर गांव में संगीनों के साए में निकली दलित संजय जाटव की बारात कासगंज। छह महीने तक…

25 करोड़ रुपए में डालमिया ग्रुप को मिला दिल्ली का लालकिला, जानिए वजह

Posted by - April 28, 2018 0
नई दिल्ली। अब दिल्ली के लालकिले को मशहूर उद्योगपति डालमिया के ग्रुप को सौंप दिया गया है। लालकिला पहली ऐतिहासिक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *