लखनऊ के मदरसे में यौन शोषण, पुलिस ने 51 लड़कियों को छुड़ाया

61 0
  • लड़कियों का आरोप – मदरसा संचालक ने बंधक बनाकर रखा था, करता था यौन शोषण

लखनऊ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सआदतगंज में पुलिस की संयुक्त टीम ने एक मदरसे में शुक्रवार रात छापा मारकर 51 लड़कियों को मुक्‍त कराया है। पुलिस का कहना है कि वहां मौजूद लड़कियों ने मदरसे के मैनेजर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। पुलिस ने मदरसे के मैनेजर कारी तैयब जिया को गिरफ्तार कर केस दर्ज कर लिया है। इस मामले की शिकायत खुद को इस मदरसे का संरक्षक बताने वाले सैयद अशरफ जिलानी द्वारा की गई थी।

जिलानी के अनुसार उन्हें काफी दिनों से मदरसे में लड़कियों के यौन शोषण की खबरें मिल रही थीं। इसी मामले पर बात करने के लिए जिलानी मदरसे के प्रबंधक कारी तैयब से बात करने के लिए गए। बातचीत के दौरान दोनों में बहसबाजी हो गई और कारी ने पुलिस को फोन कर जिलानी की शिकायत कर उन पर लड़कियों के अपहरण का आरोप लगा दिया। इसके बाद जिलानी वहां से निकलने लगे तो मदरसे की छत से कुछ लड़कियों ने उनके पास चिट्ठियां फेंकी, जिनमें लिखा था कि मदरसे में उनके साथ गलत व्यवहार किया जा रहा है। इन चिट्ठियों को लेकर जिलानी सीधे पुलिस के पास पहुंचे और कारी के खिलाफ केस दर्ज कराया।

प्रबंधक ने मदरसे को गर्ल्‍स हॉस्‍टल बना दिया

इंदिरानगर के ए-ब्लॉक में रहने वाले सैय्यद मोहम्मद जिलानी अशरफ धार्मिक गुरु हैं। उन्होंने काफी समय पहले सआदतगंज के यासीनगंज में 1660 वर्ग फुट प्लॉट खरीदा था। इसमें उन्होंने खदीज़तुल कुबरा लिलबनात नाम से मदरसा खोला था। सैय्यद मोहम्मद जिलानी ने बताया कि उन्होंने मदरसे की देखरेख और संचालन की जिम्मेदारी यासीनगंज निवासी कारी तैय्यब जिया को सौंपी थी। कुछ समय के बाद कारी तैय्यब जिया ने मदरसे को गर्ल्स हॉस्टल में तब्दील कर दिया। सैय्यद मोहम्मद जिलानी ने बताया कि कारी तैय्यब जिया मदरसे में अपनी मनमर्जी चलाने लगा। इसका विरोध करने पर वह उन्हें धमकी देकर भगा देता था।

छात्राओं ने चिट्ठी फेंक कर बयां किया दर्द

एएसपी पश्चिम विकास चन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि मौजूदा समय में मदरसे में कुल 125 छात्राएं पढ़ रही थीं। शु्क्रवार दोपहर हॉस्टल में रहने वाली कुछ छात्राओं ने मदरसे की खिड़कियों से चिट्ठी व पर्चे फेंके। इन पर्चों में लिखा था कि ‘संचालक ने हम लोगों को बंधक बना रखा है। वह हम लोगों से छेड़छाड़ करता है और विरोध करने पर अमानवीय बर्ताव करता है। पीड़ित छात्राओं ने इन पर्चों में स्थानीय लोगों से गुहार लगाई कि वह उनकी बात पुलिस तक पहुंचाकर उनकी मदद करवाएं। ये पर्चे स्थानीय लोगों के हाथ लगे तो वे सन्न रह गए। मोहल्ले के लोगों ने फौरन इस बात की सूचना मदरसे के मालिक सैय्यद मोहम्मद जिलानी अशरफ को दी।

मदरसा मालिक को घुसने नहीं दिया

इसकी सूचना मिलने पर जब सैय्यद मोहम्मद जिलानी मदरसे पहुंचे तो छात्राएं अंदर थीं और बाहर से ताला लगा था। जिलानी ने इसकी शिकायत सआदतगंज पुलिस से की। मामला संज्ञान में आने पर एसएसपी दीपक कुमार ने जिला प्रशासन, अल्प संख्यक आयोग व चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के अधिकारियों को इससे अवगत कराया। एएसपी विकास चन्द्र त्रिपाठी की अगुवाई में पुलिस, प्रशासन व चाइल्ड वेलफेयर कमेटी की टीम ने मदरसे में छापा मारा। इस दौरान पुलिस ने मदरसे में बंधक बनाकर रखी गईं 51 छात्राओं को मुक्त कराया।

Read More : https://www.livehindustan.com/uttar-pradesh/lucknow/story-lucknow-51-girls-rescued-in-raids-at-a-madrasa-in-shahadatganj-manager-arrested-1722067.html

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *