जब वजन घटाने वाले विज्ञापन से ठगे गए उपराष्ट्रपति नायडू

51 0
  • नकली सामान का मुद्दा उठने पर उपराष्‍ट्रपति ने राज्‍यसभा में बताई आपबीती

नई दिल्‍ली। धोखाधड़ी सिर्फ आम इंसानों के साथ ही नहीं हुआ करती बल्कि शीर्ष स्तर के नेता और बड़े लोग भी कभी-कभी इसके शिकार बन जाते हैं। अब इस धोखाधड़ी के शिकार पूर्व केंद्रीय मंत्री और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू बने हैं। वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को राज्यसभा सत्र में अपने भाषण के दौरान एक घटना का जिक्र किया जिसमें उन्होंने बताया कि वे वजन घटाने के विज्ञापन से धोखा खा गए थे।

विदेशी कंपनी ने दिया था धोखा

नायडू ने  राज्यसभा में बैठक के दौरान अपने भाषण में बताया कि उन्हें वजन घटाने वाली एक कंपनी ने धोखा दिया। उन्होंने इसके बारे में उपभोक्ता विभाग से शिकायत की। पड़ताल किए जाने के बाद पता चला कि यह कंपनी अमेरिका में स्थित है।

कैसे सदन में उठा मुद्दा

राज्यसभा में सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने मिलावट और नकली सामान पर सवाल उठाया था। साथ ही कहा कि विज्ञापनों का जोर है, बाजार में हर चीज में मिलावट देखने को मिलती है, वजन घटाने का दावा किया जाता है। सरकार को चाहिए कि वह भ्रामक चीजों पर अंकुश लगाने की दिशा में प्रयास करे।

नायडू से ओरिजनल दवा के बदले मांगा गया था पैसा

इस सवाल पर उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान कुछ कहते इससे पहले उपराष्ट्रपति नायडू ने अपने साथ हुए एक मामले के बारे में सदन को बताया। उन्होंने कहा, ‘उपराष्ट्रपति बनने के बाद मैंने एक विज्ञापन देखा कि इस दवा का सेवन करने पर 28 दिन में वजन कम हो जाएगा। वजन कम करने के लिए मैंने एक हजार रुपये देकर दवा मंगाई।’ नायडू ने बताया कि एक हजार रुपये का भुगतान करने के बाद भी कंपनी ने उन्‍हें दवा नहीं दी। इसके बदले कंपनी ने एक ईमेल किया, जिसमें असली दवाइयों के लिए एक हजार रुपये और मांगे गए थे। दोबारा पैसे मांगे जाने के बाद उपराष्ट्रपति ने उपभोक्ता विभाग में शिकायत की। जांच के दौरान पता चला कि वह कंपनी दिल्‍ली की न होकरर अमेरिका की थी। नायडू ने कहा कि ऐसी कंपनियों के खिलाफ कुछ किया जाना चाहिए।

मंत्री ने कहा – सख्त बिल ला रही है सरकार

उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि सरकार इस संबंध में एक सख्त बिल ला रही है। उन्होंने कहा, ‘उपभोक्ताओं की सुरक्षा के लिए वे जल्द ही एक बिल पेश करने वाले हैं जिससे ऐसी कंपनियों और विज्ञापनों से उनके हितों की रक्षा होगी।’ पासवान ने कहा कि सभी को मालूम है कि बाजार में क्या होता है लेकिन वर्तमान कानून 1986 का है जो वक्त के हिसाब से बहुत पुराना हो गया है और इसमें बदलाव लाने के लिए हमने काफी प्रयास किया है। जल्द ही संसद में यह विधेयक पेश करेंगे।

Read More : https://aajtak.intoday.in/story/vice-president-venkaiah-naidu-cheated-fake-advertisement-rajya-sabha-ramvilas-paswan-1-974173.html

Related Post

सर्वे : भारतीयों को ज्यादा पसंद हैं न्यूज, गेम्स और सोशल मीडिया एप्स

Posted by - November 14, 2018 0
नई दिल्ली। दुनिया भर में स्‍मार्टफोन यूजर्स तरह-तरह के मोबाइल एप्‍स का इस्‍तेमाल करते हैं। इस मामले में किए गए…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *