दिल्ली में अय्याशी के आश्रम से 40 लड़कियां मुक्त, 7 घंटे चला ऑपरेशन

35 0
  • दिल्ली पुलिस, सीडब्ल्यूसी और दिल्ली महिला आयोग की टीम ने सुबह से ही आश्रम में डाला डेरा

नई दिल्‍ली। दिल्ली में रोहिणी के विजय विहार इलाके में आध्यात्मिक विश्वविद्यालय के नाम से चलाए जा रहे आश्रम से गुरुवार को कई घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद करीब 40 लड़कियों को मुक्त कराया गया है। इनमें कई नाबालिग भी शामिल हैं। दिल्ली पुलिस, सीडब्ल्यूसी और दिल्ली महिला आयोग की टीम सुबह से ही आश्रम पर डेरा डाले थी। इस दौरान पुलिस ने पहले पूरे इलाके की घेराबंदी की. उसके बाद तलाशी और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया।

आश्रम की आड़ में अय्याशी का अड्डा चलाने वाला वीरेंद्र देव दीक्षित अब भी पुलिस की पहुंच से बाहर है। पुलिस ने रेस्क्यू की गई लड़कियों और महिलाओं को दो बसों में भरकर भिजवाया। आश्रम में दिल्ली पुलिस का ‘आपरेशन रेस्क्यू’ खबर लिखे जाने तक जारी था। बता दें कि आध्यात्मिक विश्वविद्यालय नाम से आश्रम चलाने वाला बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित खुद को कृष्ण बताता था। वह हमेशा महिला शिष्यों के बीच ही रहा करता था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उसने 16000 महिलाओं के साथ संबंध बनाने का लक्ष्य रखा था। वह गोपियां बनाने के लिए लड़कियों को संबंध बनाने के लिए आकर्षित करता था।

हाईकोर्ट के निर्देश पर आश्रम की जांच करने पहुंची महिला आयोग और पुलिस की टीम को कुछ वीडियो मिले, जिससे बाबा की काली करतूतों का खुलासा हुआ है। पुलिस ने आश्रम से दो लोगों को हिरासत में लिया है। आश्रम पर महिलाओं को बंधक बनाकर यौन शोषण का आरोप लगा था, जिसके बाद एक एनजीओ ने कोर्ट में कार्रवाई की गुहार लगाई थी। कोर्ट ने इसे गंभीर बताते हुए मंगलवार को महिला आयोग को जांच का आदेश दिया था। कार्रवाई के बाद टीम ने बुधवार को हाईकोर्ट को रिपोर्ट सौंपी। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी. हरिशंकर ने कहा कि यह मामला गुरमीत राम-रहीम जैसा हो सकता है, इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए। कोर्ट ने सीबीआई को आश्रम में छापा मारने के निर्देश दिए हैं।

इससे पहले छापा मारने पहुंची टीम को अनुयायियों बंधक बना लिया था। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने बताया कि महिलाओं को नशे की दवाएं दी जाती थीं। चार मंजिला आश्रम के अंदर बोर्ड पर लिखा था, ‘आपसे कोई पूछे कैसे हो तो बताना-ठीक हैं और खुश हैं। रात में लड़कियां यहां से आती-जाती हैं। यहां देह व्यापार चलता है। उम्र होने के बाद महिलाओं को बाहर निकाल दिया जाता है।

Read More : https://aajtak.intoday.in/crime/story/delhi-rohini-adhyatmik-vishwavidyalaya-ashram-girls-sexualabuse-mortgages-rescue-operation-1-972800.html

Related Post

बेनामी संपत्ति पर इनाम : ‘मुखबिर’ ही सबकुछ बता देगा तो विभाग क्या करेगा !

Posted by - June 6, 2018 0
केंद्र सरकार की इस योजना में हैं ऐसे-ऐसे प्रावधान कि इसके परवान चढ़ने पर ही लगा प्रश्‍नचिह्न  सरकार ने ऐलान…

शिवपाल ने किया ऐलान – यूपी की सभी 80 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगा सेक्युलर मोर्चा

Posted by - August 31, 2018 0
लखनऊ। समाजवादी पार्टी से अलग होकर अपना अलग समाजवादी सेक्‍युलर मोर्चा बनाने वाले शिवपाल यादव ने शुक्रवार (31 अगस्‍त) को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *