ले. कर्नल पुरोहित समेत दो की याचिका हाईकोर्ट से खारिज

56 0
  • मालेगांव विस्फोट के आरोपियों ने उन पर मुकदमा चलाने की अनुमति देने को दी थी चुनौती

मुंबई। बंबई उच्च न्यायालय ने 2008 के मालेगांव विस्‍फोट मामले में आरोपी लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीकांत प्रसाद पुरोहित और समीर कुलकर्णी की याचिकाओं को खारिज कर दिया। आरोपियों ने गैरकानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम (यूएपीए) के तहत महाराष्ट्र सरकार द्वारा उन पर मुकदमा चलाने की अनुमति देने को चुनौती दी थी।

याचिकाओं में कहा गया था कि यूएपीए के तहत मुकदमा चलाने की अनुमति देने वाले राज्य के कानून और न्याय विभाग को उचित प्राधिकरण से रिपोर्ट लेनी होती है। पुरोहित के वकील श्रीकांत शिवाडे ने कहा, ‘इस मामले में जनवरी 2009 में अनुमति दी गई थी, लेकिन प्राधिकरण का गठन अक्तूबर 2010 में किया गया, अत: मंजूरी का आदेश गलत है।’ एनआईए की ओर से पेश हुए वकील संदेश पाटिल ने कहा, ‘पुरोहित ने मंजूरी दिए जाने का मामला तब उठाया था जब उनकी जमानत याचिका पर उच्च न्यायालय में दलील दी जा रही थी।’

उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा था कि मंजूरी दिए जाने के मुद्दे पर अब इस समय विचार नहीं किया जा सकता और इस पर निचली अदालत विचार कर सकती है। हाईकोर्ट ने कहा कि यहां तक कि उच्चतम न्यायालय ने पुरोहित को जमानत देते हुए भी यही बात कही थी। उच्च न्यायालय ने एनआईए के वकील की दलीलों को आज स्वीकार कर लिया और याचिकाओं को खारिज कर दिया।

Read More : https://khabar.ndtv.com/news/maharashtra/bombay-high-court-rejects-petitions-of-malegaon-blast-accused-1789355

Related Post

आरुषि मर्डर केस : इंसाफ के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगी हेमराज की विधवा

Posted by - October 25, 2017 0
नई दिल्लीः आरुषि-हेमराज मर्डर केस में तलवार दंपति की रिहाई के बाद एब हेमराज का परिवार न्याय के लिए सुप्रीम…

यूपी विधानसभा में फिर यूपीकोका बिल पेश, फांसी तक का है प्रावधान

Posted by - March 27, 2018 0
लखनऊ। योगी आदित्यनाथ सरकार ने यूपी विधानसभा में दोबारा यूपी कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट यानी यूपीकोका बिल पेश किया…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *