लखनऊ में बीजेपी के पूर्व विधायक के बेटे की गोली मारकर हत्या

73 0
  • राजधानी के वीआईपी इलाके में सरेआम हुई घटना से सनसनी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार रात बीजेपी के पूर्व विधायक प्रेम प्रकाश तिवारी उर्फ जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव की सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वैभव को गोली मारने वालों की पहचान कर ली गई है। आरोप है कि वैभव के दोस्तों ने ही उनकी हत्या कराई है। दोस्तों ने ही फोन करके घर के बाहर बुलाया था, जिसके बाद उन्हें गोली मार दी गई। यह घटना जिस जगह हुई वह विधान भवन से महज 200 मीटर की दूरी पर है और इस समय विधानमंडल का शीत सत्र चल रहा है। पूरा इलाका चूंकि सीसीटीवी से लैस था, इसलिए पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

दरअसल जिस वक्त वारदात हुई उससे थोड़ी ही देर पहले वैभव अपने एक रिश्तेदार आदित्य के साथ कसमंडा हाउस के बाहर टहल रहा था। घटना से कुछ समय पहले वैभव के पास सूरज का फोन आया कि वह कुछ बात करना चाहता है, जिसके लिए उसने वैभव को हजरतगंज बुलाया, लेकिन वैभव नहीं गया। इस बीच आदित्य घर में चला गया। थोड़ी देर बाद जब आदित्य बाहर निकला तो उसने देखा कि सूरज आया हुआ है और वैभव से बहस कर रहा है। जानकारी के मुताबिक, सूरज और वैभव के बीच बिजनेस को लेकर विवाद चल रहा था। इसी बीच वहीं मौजूद विक्रम ने पिस्टल निकाल कर वैभव को गोली मार दी।

पत्‍नी और बेटे के साथ वैभव (फाइल फोटो)

आनन-फानन में वैभव को राममनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया गया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो गई। वैभव डुमरियागंज के दमनापुर का प्रधान भी रह चुका था। लखनऊ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक अभय प्रसाद ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता लगा है कि वैभव को कुछ लोगों ने कसमंडा हाउस स्थित उनके आवास से नीचे बुलाया। वैभव नीचे आया तो उनके बीच बातचीत के दौरान विवाद हो गया और उन्हें गोली मार दी गई, जिससे उनकी मौत हो गई।

प्रेम प्रकाश उर्फ जिप्पी तिवारी डुमरियागंज से बीजेपी के पूर्व विधायक रहे हैं। जिप्पी तिवारी अपनी पत्नी, बेटे, बहू और 3 साल की पोती के साथ लखनऊ के हजरतगंज स्थित कसमंडा हाउस में रहते हैं। पुलिस आपसी लेनदेन और रंजिश को हत्‍या का कारण मान रही है। आरोपी विक्रम सिंह हिस्ट्रीशीटर है। उसकी मां सीबीसीआईडी में दरोगा हैं। वैभव ने आईआईएम अहमदाबाद से एमबीए किया था। वैभव सिद्धार्थनगर के जगतपुर गांव से प्रधान भी थे। वह लखनऊ में रहकर प्रॉपर्टी का काम कर रहे थे। आरोपी सूरज भी वैभव का पुराना दोस्त है और प्रॉपर्टी डीलर के काम में भागीदार था। हालांकि तीन साल पहले दोनों ने अपना बिजनेस अलग कर लिया था।

Read More : https://aajtak.intoday.in/crime/story/lucknow-former-bjp-mla-son-shot-dead-criminals-identified-1-971641.html

Related Post

नीतीश कुमार को 7 जन्मों में भी माफ नहीं करेंगे लालू यादव, बताया- सबसे बड़ा ‘डरपोक’

Posted by - October 16, 2017 0
पटना: राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव अगले सात जन्मों में भी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को माफ नहीं करेंगे. लालू ने सोमवार…

OMG : इस देश में पीरियड्स से मुंह धोने का है रिवाज, जानिए बाकी देशों में क्‍या हैं मान्यताएं

Posted by - August 21, 2018 0
नई दिल्ली। भारत में पीरियड्स एक ऐसा मुद्दा है, जिस पर खुले तौर पर बात नहीं की जाती है। भारत…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *