गुजरात चुनाव : ईवीएम के पास मिला वाई-फाई नेटवर्क, हैकिंग की आशंका

102 0
  • कांग्रेस उम्मीदवार अशोक जरीवाला की शिकायत के बाद डीएम ने लगाई वाई-फाई सेवा पर रोक

सूरत। गुजरात की कामरेज विधानसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार की ओर से राज्य विधानसभा चुनावों में इस्तेमाल की गई इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) की संभावित हैकिंग और उससे छेड़छाड़ की शिकायत के बाद एक स्थानीय कॉलेज में वाई-फाई सेवा रविवार को रोक दी गई। दरअसल, ईवीएम कॉलेज के अंदर ही रखी हुई हैं।

कांग्रेस उम्मीदवार अशोक जरीवाला की शिकायत के बाद अठवा लाइंस इलाके में स्थित गांधी इंजीनियरिंग कॉलेज परिसर में वाई-फाई सेवा रोक दी गई है। जरीवाला ने कहा, ‘हमने पाया कि (कॉलेज में बने) रूम के पास एक वाई-फाई नेटवर्क उपलब्ध था, जिसके बाद हमने डीएम से कार्रवाई करने को कहा।’ कांग्रेस नेता के मुताबिक, उन्होंने दो दिन पहले भी ऐसी ही शिकायत की थी, जिसके बाद डीएम ने परिसर में वाई-फाई सेवा पर रोक लगाने के आदेश दिए थे।

वाई-फाई से छेड़छाड़ की जताई आशंका
जरीवाला ने बताया, ‘रविवार को हमने वाई-फाई नेटवर्क को फिर से सक्रिय पाया। हम कोई जोखिम नहीं लेना चाहते क्योंकि ईवीएम की हैकिंग और उनसे छेड़छाड़ की आशंका है।’ शिकायत के बाद सूरत के डीएम और जिला निर्वाचन अधिकारी महेंद्र पटेल ने कॉलेज के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने परिसर में वाई-फाई सेवा पर रोक लगाएं। पटेल ने कहा कि शिकायतकर्ता को स्ट्रॉन्ग रूम के अंदर रखी ईवीएम में वाई-फाई के इस्तेमाल से छेड़छाड़ होने की आशंका थी। बहरहाल, हमने उनके संदेह को दूर करते हुए रोक लगाने के आदेश दे दिए हैं।

6 विधानसभा क्षेत्रों की हैं ईवीएम
इस स्ट्रॉन्ग रूम में 6 विधानसभा क्षेत्रों- ओल्पड, मांडवी, महुआ, व्यारा, कामरेज और मंगरोल की ईवीएम रखी हुई हैं। एग्जिट पोल में सत्ताधारी बीजेपी को बहुमत मिलता हुआ दिखाया गया है।

हार्दिक भी लगा चुके हैं आरोप
बता दें कि कांग्रेस समेत पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने भी ईवीएम की हैकिंग की आशंका जाहिर की है। हार्दिक ने रविवार को ट्विटर पर लिखा कि यदि भगवान की ओर से बनाए गए मानव शरीर से छेड़छाड़ हो सकती है तो ईवीएम से क्यों नहीं, आखिर उसे भी तो इंसान ने ही बनाया है? यदि एटीएम हैक किया जा सकता है तो ईवीएम क्यों नहीं?

Read More : https://navbharattimes.indiatimes.com/state/gujarat/other-cities/congress-leader-complained-of-wi-fi-network-near-evm-machines-gujarat/articleshow/62106879.cms

Related Post

धारा 377 : जानिए किन लोगों ने लड़ी समलैंगिक समुदाय के लिए लंबी कानूनी लड़ाई

Posted by - September 6, 2018 0
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को  भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 377 को खत्म कर दिया। सर्वोच्‍च अदालत…

60 साल से ऊपर हैं तो ब्रेन स्ट्रोक से रहिए सावधान, 15 से 59 साल वालों को भी खतरा

Posted by - October 29, 2018 0
वॉशिंगटन। अगर आप 60 साल या ज्यादा उम्र के हैं, तो सावधान रहिए। ब्रेन स्ट्रोक नाम की खतरनाक बीमारी आपको…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *