शरद यादव की गई सदस्यता, खाली सीट के लिए ये दो नेता हैं दावेदार!

58 0

पटना। जनता दल यूनाइटेड के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और पार्टी से बगावती तेवर अपना चुके शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खत्म हो गई है। इसके बाद अब एक बार फिर से सवाल ये उठने लगे है कि शरद यादव की सीट पर अब पार्टी की तरफ से राज्यसभा कौन पहुंचेगा?शरद यादव का कार्यकाल 8 जुलाई 2016 से 7 जुलाई 2022 था। अब उनकी सदस्यता खत्म होने के बाद किसी का चुना जाना तय है।

शरद यादव की सीट पर राज्यसभा पहुंचने वाले दावेदारों में कई नाम हैं लेकिन सूत्रों के मुताबिक इस पद के लिए जदयू के राष्ट्रीय महासचिव के सी त्यागी और संजय झा का नाम सबसे आगे है। दोनों नीतीश कुमार के काफी करीबी हैं और पार्टी के लिए दोनोें हमेशा संकटमोचक साबित हुए हैं।केसी त्यागी को खुले मंच पर भी नीतीश कुमार के साथ अक्सर देखा जाता है लेकिन संजय झा पर्दे के पीछे से पार्टी के लिए काम करते हैं। संजय झा का बीजेपी के भी कई केंद्रीय नेताओं से अच्छे संबंध हैं।

आपको बता दें कि इससे पहले जुलाई 2016 में भी राज्यसभा के दो सीटों के लिए के सी त्यागी और संजय झा मजबूत दावेदार थे लेकिन पार्टी ने शरद यादव और आरसीपी सिंह पर भरोसा जताया था।हालांकि, अली अनवर की भी सदस्यस्ता खत्म हुई है लेकिन उनका कार्यकाल 2 अप्रैल 2018 को समाप्त हो रहा है और ऐसे में उनकी सीट पर चुनाव होनेे की उम्मीद नहीं है।बिहार जदयू के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के अलावा अनिल कुमार साहनी और डॉ महेंद्र प्रसाद का भी अप्रैल 2018 में राज्यसभा सीट का कार्यकाल खत्म हो रहा है। क्या पार्टी इन लोगों को दोबारा राज्यसभा भेज पाएगी?

Related Post

मुगाबे को राष्ट्रपति पद से हटाने को सड़कों पर उतरे जिम्बाब्वे के लोग

Posted by - November 19, 2017 0
प्रदर्शनकारियों के हाथ में थे पोस्टर, जिन पर मुगाबे के लिए लिखा था – ‘अब जिम्बाब्वे छोड़ दो’ हरारे। जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति…

बिहार में तीन युवकों ने नौवीं की छात्रा से किया गैंगरेप, वीडियो किया वायरल

Posted by - October 7, 2017 0
अपनी दोस्‍त से मिलने जा रही थी छात्रा, इसी दौरान तीनों लड़कों ने उसे अगवा कर लिया बांका। तीन युवकों ने…

श्रीलंका में हिंसा फैलने के बाद 10 दिनों के लिए लगाई गई इमरजेंसी

Posted by - March 6, 2018 0
भारत के लिए चिंता : टी-20 त्रिकोणीय सीरीज खेलने गई टीम इंडिया इस समय कोलंबो में मौजूद कोलंबो। सांप्रदायिक हिंसा के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *